इंडोर स्टेडियम में 350 बेड का कोविड-19 अस्पताल बनकर तैयार, कल से भर्ती होंगे मरीज

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। राजधानी के इंडोर स्टेडियम में प्रदेश का सबसे बड़ा अस्थाई कोविड-19 अस्पताल मरीजों के लिए बनकर तैयार हो चुका है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वर्चुअल माध्यम से अस्थाई कोविड अस्पताल का निरीक्षण किया. मुख्यमंत्री ने 3 दिनों में तैयार हुए इस अस्पताल की तारीफ भी की है. कोरोना संक्रमण से रायपुर की स्थिति बिगड़ते ही 350 बिस्तरों का ऑक्सीजन बेड तैयार किया गया है. जिसमें 140 ऑक्सीजन प्लांट गंभीर मरीज, 200 नोडल ऑक्सीजन बेड सामान्य मरीज और वेंटिलेटर बेड बनाया गया है.

Chhattisgarh Crimes

स्वास्थ्य मंत्री ने दी 500 बेड की जानकारी

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने ट्वीट कर कहा कि रायपुर जिले में लॉकडाउन के बाद भी तेजी से कोरोना के केस बढ़ रहे हैं. इस बीच इंडोर स्टेडियम को 500 बेड वाले COVID अस्पताल में बदल दिया गया है. यह सुनिश्चित करने के लिए पहल की गई है कि अधिकतम मरीजों की देखरेख और देखभाल की जा सके.

सर्वसुविधा युक्त कोविड अस्पताल

रायपुर महापौर एजाज ढेबर ने कहा कि राजधानी में सबसे ज्यादा ऑक्सीजन बेड की जरूरत है. मुख्यमंत्री के प्रयास से इंडोर स्टेडियम में 350 बेड का अस्थाई अस्पताल तैयार किया गया है. पूरे हॉस्पिटल में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं. लैंडलाइन फोन लगाया गया है. वाईफाई भी लगाया गया है. कंप्यूटर ऑपरेटर से कोई भी मरीज वीडियो कॉल कर अपने परिजनों से बात कर सकता है. टीवी से लेकर खान-पान की व्यवस्था की गई है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज इसका निरीक्षण किया है. संभवत कल से यहां मरीजों की भर्ती प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

दानवीरों के पैसे से बना है कोविड अस्पताल

महापौर ने कहा कि रायपुर नगर निगम का प्रयास रहेगा कि आने वाले समय पर जो भी कोविड-19 बनाए जाएंगे. वो ऑक्सीजन बेड वाले ही बनाए जाएंगे. क्योंकि अभी रायपुर में सबसे ज्यादा इसी की जरूरत है. नगर निगम की ओर से मरीजों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए एक एम्बुलेंस भी खरीदी गई है. इस कोविड अस्पताल को तैयार करने में रायपुर नगर निगम और जिला स्वास्थ्य विभाग का पैसा नहीं लगा है. सभी दान दाताओं का मैं धन्यवाद करता हूं.

विधायक कुलदीप जुनेजा ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल वर्चुअल माध्यम से इसे देखकर बहुत खुश हुए हैं. सीएम ने सभी को बधाई भी दी. यह अस्पताल कल से मरीजों को भर्ती करने पूरी तरीके से शुरू हो जाएगा. अब लोगों को असुविधा के लिए भटकना नहीं पड़ेगा. इस अस्पताल में सभी मरीज डॉक्टरों की निगरानी में रहेंगे. सभी प्रकार की व्यवस्थाएं की गई है.