सीजीपीएससी में नौकरी दिलाने के नाम पर युवती से 9.5 लाख की ठगी

आरोपी संतोष ने खुद को रायपुर पीडब्ल्यूडी का असिस्टेंट इंजीनियर बताया

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर जिले में सोशल मीडिया पर दोस्ती और फिर लाखों रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। पता चला है आरोपी ने सीजीपीएससी में नौकरी दिलाने के नाम पर युवती से 9 लाख 50 हजार रुपए ठग लिए। फिर जब नौकरी लगाने की बात आई तब गोल-मोल जवाब देने लगा। पूरा मामला जिले के गांधीनगर थाना क्षेत्र का है, पुलिस ने अब आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी का नाम संंतोष कुमार निर्मलकर बताया गया है, जो राजधानी रायपुर से लगे अभनपुर इलाके का रहने वाला है। वहीं आरोपी से 4 लाख रुपए ही बरामद किए जा सके हैं। बाकि पैसों को लेकर आरोपी ने कहा है कि उसने पैसों को खर्च कर दिया और अपना कर्ज पटा दिया है।

पुलिस ने आरोपी से उसका मोबाइल भी जब्त कर लिया है। जानकारी के मुताबिक अंबिकापुर के गांधीनगर इलाके में रहने वाला युवती मिथलेश मालवीय की दोस्ती फेसबुक के माध्यम से संतोष से हुई थी। दोनों के बीच बातचीत होने लगी। संतोष ने अपने आप को रायपुर पीडब्ल्यूडी में असिस्टेंट इंजीनियर होना बताया था। इस बीच संतोष ने जब मिथलेश से पूछा कि आप क्या करती हो तो उसने बताया थि कि मैं पीएससी की तैयारी कर रही हूं।

इसी बात का फायदा संतोष ने उठाया। संतोष ने मिथिलेश को बताया कि मेरी सीजीपीएससी में पहचान है, मैं तुम्हारी नौकरी लगवा दूंगा। हां उसके लिए 9 लाख 50 हजार रुपए लगेंगे, जो तुम्हें देने होंगे। इसके बाद पीड़िता ने संतोष के खाते में अलग-अलग किश्तों में पैसे जमा करा दिए। इस बीच दिन गुजरते जा रहे थे और मिथिलेश की नौकरी भी नहीं लग रही थी। जब मिथिलेश उससे नौकरी का पूछती तो रोज गोल-मोल जवाब देता था। आखिरकार युवती ने 9 जून 2021 को इसकी रिपोर्ट दर्ज कराई। फिर आरोपी को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी से पूछताछ की गई तो उसने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया है।