पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह ने गिनाई सरकार की खामियां, बोले- चेयरमैन का बायोडाटा देख लें तो युवा एग्जाम देना बंद कर देंगे

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। भाजपा और कांग्रेस के बीच का सियासी जंग तेज हो रहा है। जहां एक ओर टूलकिट मामले को लेकर कांग्रेस ने यह कह कर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा पर एफआईआर (FIR) दर्ज किया कि ये दोनों नेता कांग्रेस के बड़े नेताओं को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस करके राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा है।

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा कि मेरा आग्रह है कि कांग्रेस भी प्रेस कांफ्रेंस करके एक एक बिंदु का जवाब दें कि ढाईसाल में उन्होंने क्या-क्या काम किए हैं। रमन सिंह ने राज्य सरकार पर झूठे वादे करने और भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है।  अपनी प्रेसवार्ता में रमन सिंह ने राज्य सरकार पर झूठे वादों का आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में 1 लाख युवाओं को नौकरी देने की घोषणा की थी। नौकरी तो छोड़िए जो अभ्यर्थी चयनित हो चुके हैं उनकी भर्ती प्रक्रिया को पूरा नहीं किया जा रहा है और जब युआ अपने हक की मांग कर रहे हैं तो पुलिस उन्हें घर से उठा रही है। रमन सिंह ने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ में औसतन 7 बलात्कार रोज़ हो रहे हैं। पीएससी (PSC) भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुका है। चेयरमेन का बायोडाटा देख लें तो युवा एग्जाम देना बंद कर दें।

प्रदेश में माफिया राज चल रहा है और सट्टे व जुए के यहां सार्वजनिक ठेके होते हैं। इतना ही नहीं रमन सिंह ने यह आरोप भी लगाया कि बेटियों की शादी में पैसा खाने पर भी इस सरकार को संकोच नहीं है। “रेडी टू ईट” में भी ये सरकार बच्चों का निवाला छीनने का काम कर रही है। साथ ही केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी आयुष्मान योजना जो जनता के हित में थी, उसे भी बंद कर दिया गया है।