फर्जी महिला पुलिस अधिकारी बनकर की 18 लाख रुपये की ठगी, गिरफ्तार

Chhattisgarh Crimes

दुर्ग/भिलाई। पुलिस ने फर्जी महिला पुलिस अधिकारी को गिरफ्तार किया है. जो युवक को लगातार ब्लैकमेल कर रही थी. पुलिस ने बताया कि आरोपियां महिला पुलिस अधिकारी बनकर घटना को अंजाम दिया था। पिछले 02 वर्षो के दौरान डरा – धमका कर प्रार्थी से अपने फोन पे खाते में 18 लाख रूपये जमा करवा लिया था। बलात्कार के मामले की शिकायत व वीडियो उपलब्ध होने का डर दिखा कर पैसा मांगती थी। वही प्रार्थी से डरा – धमका कर लिये गये रकम को मकान बनवाने , बोर खुदवाने तथा ईलाज करवाने में खर्च कर चुकी है। आरोपिया के कब्जे से पुलिस ने मोबाईल फोन , सीम कार्ड , ए . टी . एम . कार्ड और बैंक पासबुक जब्त की है.

ब्लैकमेलिंग के खिलाफ शिकायत कैसे करें?

कभी-कभी लोगों को ऐसी मुश्किल सिचुएशन का सामना करन पड़ता है, जहां एक ब्लैकमेलर उनसे पैसे या सेक्सुअल फेवर की मांग करता है। और मांग पूरी ना होने पर व्यक्ति की पर्सनल या अश्लील फोटो या वीडियो को प्रसारित करने और उनके सम्मान को चोट पहुंचाने के लिए ब्लैकमेल करता है। सबसे पहले आप डरे नहीं। हिम्मत जुटाएं और ऐसे ब्लैकमैलेर्स के खिलाफ कदम उठाएं, जो आपको धमकाने या परेशान करने की कोशिश कर रहे हैं। कई बार, एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को ब्लैकमेल करके परेशान करता है या उनकी प्रतिष्ठा को नष्ट करने और उन्हें बदनाम करने की धमकी देता है। भारत में उत्पीड़न और ब्लैकमेलिंग दोनों ही अपराध है।

उत्पीड़न गलत और बुरे कामों की वजह से होता है, जबकि ब्लैकमेलिंग किसी व्यक्ति की झूठी जानकारी को पब्लिक करना या प्रचारित करने के लिए धमकियां देकर जबरदस्ती काम कराना होता है। भारत के राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा समन्वयक की रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना महामारी के पिछले 2 सालों के दौरान ब्लैकमेलिंग के केस बढे है।