फेरी कर बर्तन बेचने वाले चोरों से चार लाख का सामान बरामद

दर्जन भर शहरों में कर चुके हैं वारदात, नगर के लखोली क्षेत्र में भी की थी चोरी

Chhattisgarh Crimes

राजनांदगाँव । नगर सहित प्रदेश के अन्य जिलों में घूम- घूमकर फेरी के माध्यम से बर्तन बेचने वालों के गिरोह को पुलिस ने बड़ी चोरियों के इल्जाम में अपनी हिरासत में लिया है । आरोपियों के पास से लगभग चार लाख रुपये के सोने- चाँदी के जेवरों सहित मोटर- सायकल एवम मोबाइल भी पुलिस ने जप्त किया है । बीते लगभग 17 दिन पूर्व जनता कॉलोनी लखोली स्थित एक सुने मकान में भी इसी गिरोह ने चोरी की घटना को अंजाम दिया था । गिरोह के पकड़ में आने के बाद और भी वारदातों के खुलासे की उम्मीद जताई जा रही है ।

पुलिस ने आज उक्त चोरी के आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विस्तृत जानकारी मीडिया को उपलब्ध कराई । पुलिस ने गंभीरता पूर्वक विवेचना करते हुए मुखबिरों के माध्यम से उक्त सफलता पाई । जनता कॉलोनी लखोली निवासी पीड़ित चुन्नीलाल डेकाटे पिता स्व. रामजी डेकाटे ( 61 वर्ष ) सिद्धि विनायक मंदिर के पीछे , ने 08 जून को कोतवाली पुलिस को बताया कि वह 04 जून को दोपहर में परिवार सहित किसी काम से नागपुर गया था । वह 08 जून को प्रात: 3.30 बजे अपने घर वापस लौटा । घर के मुख्य द्वार का ताला टूटा पाया गया । अंदर जाने पर ज्ञात हुआ कि आरोपियों ने हर कमरे के तालों को तोड़ दिया था । सारा सामान बिखरा हुआ था । आलमारियों के लाकर भी टूट चुके थे । श्री डेकाटे ने बताया कि आरोपियों ने आलमारी में रखे सोने के 33 ग्राम नेकलेस सेट झुमका सहित, 15 ग्राम सोने की चैन, 35 ग्राम सोने का कंगन , 10 एवम 08 ग्राम के सोने के मंगल सूत्र ,07 ग्राम की अंगूठी, 06 ग्राम का झुमका, 05 ग्राम का कान का बाला सहित चाँदी की छोटी गिलास ,एक लोटा, 15 नग सिक्के, एक कुमकुम डिब्बा, पायल एवम बिछिया,एक नग सैमसंग का मोबाइल के साथ 100,000 रुपये नगद को पार कर दिया है । कुल मिलाकर उक्त चोरी में 3 लाख 65 हजार का नुकसान बताया गया था ।

शहर के भीतर सुने मकान से की गई इतनी बड़ी चोरी की वारदात पुलिस की रात्रि गश्त पर सवाल खड़ा करने के साथ बड़ी चुनौती बनी हुई थी । पुलिस के बड़े अधिकारियों के दिशा- निर्देश पर पुलिस विवेचना में लगी हुई थी। इसी दौरान मुखबिर से सूचना मिली कि कुछ लोग बाहर से आकर चिचोला में किराए के मकान में रहकर फेरी के माध्यम से बर्तन बेचने का काम कर रहे हैं । सूचना पर चिचोला पहुंची पुलिस को पता चला कि कुछ बंगाली लोग किराए में रह रहे हैं और बर्तन बेचने का काम करते हैं । पूरे क्षेत्र में पुलिस इनकी तलाश में जुट गई । टप्पा के आसपास पुलिस को एक फेरीवाला बर्तन के साथ दिखाई पड़ा । थाना लाकर पूछताछ करने पर उसने अपना नाम मोहम्मद अबु बकर सिद्दीकी उर्फ आकाश यादव पिता हफीज खान उर्फ शंभु यादव (29 वर्ष) निवासी ग्राम तोष गांव थाना सरायपाली जिला महासमुंद का रहने वाला बताया । पहले तो उसने चोरी जैसी घटना के मामले में अज्ञानता जाहिर की । पुलिस की सख्ती के साथ पूछताछ में आरोपी ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया और बताया कि नगर के कई क्षेत्रों में चोरी करना कुबूल किया । यह भी बताया कि लखोली क्षेत्र में लगभग दो माह पूर्व गोविंदा उर्फ अशरफ खान एवम मोहम्मद बादोल उर्फ बादल रॉय तथा सुमंत खांडोकर के साथ चोरी की थी । इसके अलावा 20- 25 दिन पूर्व बफार्नी धाम के पीछे स्थित कॉलोनी में भी इन्हीं लोगों के सहयोग से चोरी की थी ।

पकडे गए गिरोह के लोगों ने लालबाग थाना, सोमनी थाना,तुमड़ीबोड चौकी,सहित कवर्धा जिले के सहसपुर लोहारा,आदि क्षेत्र में भी चोरियों को अंजाम दिया है । मुंगेली तथा बेमेतरा में भी सुने घरों को निशाना बनाकर इसी गिरोह ने कई चोरियां की हैं । यह भी खुलासा हुआ कि इन्हीं क्षेत्रों में चोरियों की घटना के बाद उन्हें जेल भी भेजा जा चुका है ।

हर वारदात के बाद बदल देते है नाम

प्रदेश भर में घूम- घूमकर चोरियों को अंजाम देने वाले आरोपी इतने शातिर है, कि हर घटना के बाद पुलिस को चकमा देने के लिए अपने नाम बदल देते हैं । आरोपी फेरी के द्वारा घर- घर तक पहुंचकर अपनी पैनी निगाह में घर के हर कोने को कैद कर लेते हैं, फिर इंतजार करते हैं मौके का ,और पूरा घर खाली कर रातों रात अपना ठिकाना भी बदल देते हैं ।