ग्रीन केयर का पर्यावरण संरक्षण तीजा मिलन कार्यक्रम “एक पौधा मायके में दूसरा पौधा ससुराल में”

Chhattisgarh Crimes

बागबाहरा। छत्तीसगढ़ के सांस्कृतिक ,धार्मिक एवम पारंपरिक पर्व तीजा के अवसर पर ग्रीन केयर सोसायटी इंडिया द्वारा प्रति वर्षानुसार इस वर्ष भी संस्था की विगत 17 वर्षों की परंपरा का निर्वाह करते हुए ग्राम कलमीदादर में तीजा पर्व ” पर्यावरण संरक्षण तीजा मिलन ” एक पौधा मायके में दूसरा पौधा ससुराल में ” कार्यक्रम का शानदार आयोजन किया गया ।

इस अवसर पर समस्त तीजारिन माताओं बहनों को दो दो पौधे ” एक पौधा मायके में लगाने तथा दूसरा पौधा ससुराल में लगाने के लिए दिया गया जिसके पीछे मूल भावना मातृ शक्तिको पर्यावरण संरक्षण से जोड़ने तथा दोनो परिवारों के बीच संबंधों को सदा समृद्ध बनाने भावना जुड़ी हुई है। ऑनलाइन जुड़कर उपरोक्त उदगार ब्यक्त करते हुए ग्रीन केयर अध्यक्ष डॉ विश्वनाथ पाणिग्राही ने समस्त तीजारीन मातृ शक्ति एवम उनके परिवार जनों की मंगलकामना की,साथ ही बकमा निवासी स्वर्गीय जनाब शेर मोहम्मद साहब को स्मरण किया जिनकी भावनानुसार उनके जीवनकाल से यह कार्यक्रम प्रारंभ किया गया । तीजारीनो को पौधे भेंट करने हेतू पौधे निशुल्क प्रदान करने के लिए वन मंडलाधिकारी पंकज राजपूत एवम परिक्षेत्र अधिकारी विकास चंद्राकर को संस्था के डायरेक्टर एवम सी ओ ओ अमूजूरी विश्वनाथ ने आभार संप्रेषित किया । पंडित भागीरथी दुबे ने तिजा पर्व के धार्मिक आध्यात्मिक पहलू पर प्रवचन देते हुए ब्रह्मलीन संत कवि पवन दीवान जी की कविता करू भात सुनाकर सबको प्रसन्न कर दिया ।इस कड़ी मे इतिहासकार विजय शर्मा , छत्तीसगढ़ी कवि गोवर्धन लाल बघेल , रामू साहू , रिंकल बग्गा , चिंताराम साहु , कृपाराम साहु ने संबोधित किया ।

तिजारिन गिरिजा बाई , फूल बाई , कु गीता ,सोहदरा ,दुमेश्वरी ,कांति ,हीराबाई ,सविता, गौरी , पुष्पा , सूकवंतींन , ज्योति , अनिता , हेमबाई , सावित्री , कौशल्या , शेलाबाई ,दिगेश्वरी , कमलेश्वरी ,रामिन ,रामबाई , मोतीन , पानबाई , हिरमोतीन, एवम अन्य को दो दो पौधों ,के साथ साथ तिजारिनो को ब्लाउज पीस स्नेह भेंट के रूप में श्रीमती मंदाकिनी भागीरथी दुबे परिवार द्वारा प्रदान किया गया । कार्यक्रम में रामू साहू तेंदूकोना एवम साहू परिवार कलमी दादर का विशेष सहयोग रहा।