उपभोक्ता हितों का संरक्षण व संवर्धन पर राष्ट्रीय कार्यशाला एवं सम्मान समारोह का हुआ आयोजन

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। शुक्रवार को शहीद स्मारक भवन रजबंधा मैदान रायपुर में उपभोक्ता हितों का संरक्षण व संवर्धन पर राष्ट्रीय कार्यशाला एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया।अपेक्स संस्था कंजूमर को आर्डिनेशन काउंसिल (सीसीसी) नई दिल्ली द्वारा रायपुर छत्तीसगढ़ में उपभोक्ता संगठनों की राष्ट्रीय कार्यशाला में सेवा एवं वस्तु देने वाली कई अग्रणी संस्था यूनिवर्सिटी शासकीय गैर शासकीय विभाग, के सामाजिक संगठन के प्रतिनिधि सहित स्कूल व कॉलेज के विद्यार्थी शामिल हुए।

Chhattisgarh Crimes

उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत और विशिष्ट अतिथि के रुप में (सी.सी.सी.) के चेयरमैन डॉ. पी. रामाराव रहे। मुख्य वक्ता के रूप में रामजी भाई भवानी पूर्व सांसद राजकोट गुजरात, अमृतलाल साहा पूर्व अध्यक्ष सी.सी.सी. अगरतला त्रिपुरा,अभिषेक श्रीवास्तव अधिवक्ता पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष संयोजक सी.सी.सी.नई दिल्ली अध्यक्ष कन्ज्यूमर गिल्ड उत्तरप्रदेश, जार्ज चेरियन सदस्य भारतीय खाद्य सुरक्षा मानक प्राधिकरण अध्यक्ष कट्स इंटरनेशनल, लियाकत अली सदस्य राज्य उपभोक्ता आयोग राजस्थान, तफैल अमहद डीन कलिंगा यूनिवर्सिटी विधि विभाग, डॉ. नवीन श्रीवास्तव उपभोक्ता सुरक्षा शिक्षा फाउंडेशन अध्यक्ष, खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण, भारतीय दूरसंचार विनायामक प्राधिकरण, व अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग सदस्य,पी.के. पाण्डा पूर्व अध्यक्ष सीसीसी., सी. पाकिया लक्ष्मी मदुरई तमिलनाडु उपभोक्ता फोरम सदस्य, शर्मिला रनाडे मुम्बई ग्राहक पंचायत महाराष्ट्र सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती के पूजन एवं माल्यार्पण के बाद छत्तीसगढ़ की राजकीय गीत के बाद देश के विभिन्न राज्यों से आए हुए कार्यकर्ता व फाउंडेशन के सदस्यों ने मंच पर उपस्थित अतिथियों का जोरों से स्वागत किया।

Chhattisgarh Crimes

कार्यशाला में उपभोक्ता सुरक्षा शिक्षा फाउंडेशन के अध्यक्ष, खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण, भारतीय दूरसंचार विनायामक प्राधिकरण, व अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग के सदस्य डॉक्टर नवीन श्रीवास्तव ने उपस्थित विद्यार्थियों एवं लोगो को संबोधित करते हुए कहा उपभोक्ता को उत्पाद की बनावट की बजाय उसकी गुणवत्ता पर ध्यान देते हुए खरीददारी करनी चाहिए। उपभोक्ता को खरीददारी के दौरान सरकार द्वारा स्थापित मानकों का ध्यान रखना चाहिए ताकि उनके अधिकारों का हनन न हो। उपभोक्ताओं को अपने अधिकारों के प्रति और अधिक जागरूक होना चाहिए।विभागीय गतिविधियों एवं ग्राहकों के अधिकारों के संबंध में जागरूक किया गया।

कार्यशाला में उपभोक्ताओं को खरीदी उपयोग एवं सेवा के दौरान बरते जाने वाली बारिकीयां के बारे में जैसे चुनने का आधिकार, सूचना का अधिकार, सुरक्षा का अधिकार, शिकायत निवारण एवं उपभोक्ता शिक्षा के अधिकार के बारे में विस्तार से जानकारी अलग अलग राज्यों से आए हुए वक्ताओं ने दी।

अन्य वक्ताओं ने भी अपने वक्तव्य में कहा की स्वयंसेवी सामाजिक संस्थाओं को भी उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए सदैव प्रयासरत रहना चाहिए। उपभोक्ताओं के अधिकारों के संरक्षण और उन्हें जागरूक करने के लिए देश भर में हमारे फाउंडेशन के बारे में प्रयास किए जा रहे हैं।

विज्ञापन के माध्यम से बड़ी कंपनिया भी उपभोक्ताओं को गुमराह करती है। उपभोक्ता जागरूकता उन्हें निर्माताओं और विक्रेताओं द्वारा शोषण से बचाने का एक माध्यम है। उपभोक्ताओं को भ्रमित करने वाले झूठे विज्ञापनों से बचना चाहिए। प्रचारित की गई वस्तुएं गुणवत्ता की नहीं होती है और उनका मूल्य अधिक लिया जाता है। कई बार एकाधिकारिता का लाभ उठाकर अधिक मूल्य लिया जाता है। इसीलिए उपभोक्ताओं को जागने एवं स्वयं को संरक्षित करने की आवश्यकता हैं।

इस कार्यशाला में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम कानून में संशोधन करने व राष्ट्रीय उपभोक्ता नीति जारी करना, उपभोक्ता जागरूकता स्वयंसेवक को मान्यता देने संबंधित विषयों पर गंभीरता से विचार विमर्श किया गया।

उक्त कार्यक्रम के आयोजन में मुख्य रूप से डॉक्टर नवीन श्रीवास्तव, राष्ट्रीय महिला अध्यक्ष मधु ठाकुर ,राष्ट्रीय सचिव डॉक्टर धर्मराज ताम्रकार, प्रदेश कार्य.अध्यक्ष राजेश पांडे, प्रदेश कार्य.अध्यक्ष देवेंद्र चंद्रवंशी, प्रदेश सचिव माधुरी सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष विश्वराज ताम्रकार, प्रदेश उपाध्यक्ष रामकुमार चंद्रवंशी, गजेंद्र साहू,संजीव गौतम ,शैलेश सरनाईक, संतोष दास मानिकपुरी ,मुकेश ठाकुर जितेंद्र पाठक सहित बड़ी संख्या में अलग-अलग विषयों पर काम करने वाले एनजीओ समाजिक संगठन एवं व्यापार संगठन भी उपस्थित रहे।