सीएम हाउस से परिवार समेत निकले उद्धव, सामान भी ले गए; मातोश्री के आगे हजारों शिवसैनिक जुटे

Chhattisgarh Crimes

मुंबई/सूरत। दो दिन से सरकार बचा रहे उद्धव आखिरकार हथियार डालते नजर आ रहे हैं। एकनाथ शिंदे के सरकार और पार्टी दोनों पर दावे के बाद फेसबुक लाइव किया और कहा कि मैं लड़ने वाला शिवसैनिक हूं पर सामने आकर बातचीत का प्रपोजल भी रखा। इसके बाद एकनाथ शिंदे गठबंधन तोड़ने पर अड़े रहे।

Chhattisgarh Crimes

इसके करीब एक घंटे बाद सबसे चौंकाने वाली तस्वीर सामने आई। उद्धव का दफ्तर यानी सीएम हाउस वर्षा खाली होने लगा। उद्धव भी परिवार समेत निकल गए। उनके साथ पत्नी रश्मि ठाकरे, दोनों बेटे आदित्य और तेजस ठाकरे भी सरकारी बंगला वर्षा से निजी आवास मातोश्री के लिए निकल गए। इसके बाद कर्मचारी उनका सामान निकालने लगे। उद्धव के समर्थन में मातोश्री के बाहर सैकड़ों शिवसैनिक जमा हो गए हैं।

दरअसल, शरद पवार भी उद्धव को सलाह दे चुके थे कि मुख्यमंत्री पद पर शिंदे को ही बैठा दो। उधर, शिंदे आक्रामक ही रहे। बोले- गठबंधन बेमेल है और इसमें शिवसेना कमजोर हो रही है। गठबंधन से बाहर आना जरूरी है।

शिंदे खेमा तब और मजबूत हो गया, जब देर शाम करीब साढ़े आठ बजे 4 और विधायक गुवाहाटी पहुंच गए। इनमें 2 शिवसेना और 2 निर्दलीय शामिल हैं। ये विधायक हैं गुलाब राव पाटिल, योगेश कदम, मंजुला गाबित और चंद्रकांत पाटिल। 4 नए विधायक पहुंचने के बाद कुल विधायकों की संख्या अब 39 पहुंच गई है।