योगा टीचर के अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझी: शिक्षक की पत्नी और मित्र ने ही की थी हत्या, मास्टर माइंड समेत 7 आरोपी गिरफ्तार

Chhattisgarh Crimes

बालोद। तांदुला डेम बालोद के पास हुए अंधे कत्ल को सुलझाने में बालोद पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। व्यायाम शिक्षक हिमांशु मांडले की हत्या हुई थी। मृतक की पत्नि और उसका मित्र ही हत्या के षडयंत्र का मुख्य आरोपी निकला है।मर्डर का मास्टर माईंड सहित 05 आरोपियों एवं 02 विधि से संघर्षरत बालक को गिरफ्तार किया गया है।

बालोद घूमने के नाम से आरोपियों द्वारा इनोवा कार की बुकिंग किया गया था। अंधे कत्ल के सभी आरोपियों को घटना के 02 दिवस के भीतर घटना में प्रयुक्त हथियार सहित ढूंढ़ निकाला गया है।मामला बालोद का है।

दिनांक 21.12.2020 को प्रात: 06:45 बजे राकेश निषाद साकिन जुर्रीपारा बालोद द्वारा मोबाईल फोन के जरिये थाना प्रभारी बालोद को सूचना मिली कि जुर्री पारा बालोद के आगे तांदुला डेम किनारे किसी अज्ञात व्यक्ति का शव है, जिसके सिर पर पत्थर से प्रहार किया गया है तथा घटनास्थल के आसपास खून के निशान हैं। उक्त सूचना पर से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह मीणा ,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डी. आर पोर्ते, डीएसपी दिनेश सिन्हा ,थाना प्रभारी बालोद एवं हमराह स्टॉफ के घटनास्थल पहुंचकर अज्ञात व्यक्ति के शव एवं घटनास्थल का निरीक्षण कर मौके पर फोरेंसिक टीम, सायबर टीम, डॉग स्क्वाड की सहायता लिया गया ।

घटनास्थल एवं मृतक के शव का निरीक्षण किया गया मृतक का सिर कुचला हुआ, गले में धारदार हथियार से रेतने का घाव, पेट व पसली पर भी धारदार हथियार से मारने का निशान था । मृतक के सिर के पास एक बड़ा पत्थर खून से सना हुआ, शव के आसपास जमीन पर खून के छींटे एवं धब्बे दिख रहे थे। घटनास्थल को देखने से प्रतीत होता है कि कुछ व्यक्ति मिलकर साथ में बैठकर शराब का सेवन करने के पश्चात मृतक को धारदार हथियार से मारने के पश्चात उसके पहचान छिपाने पत्थर को सिर से कुचला गया है।

घटनास्थल पर प्रार्थी की रिपोर्ट पर मौके में देहाती नालसी अपराध क्रमांक 00/2020 धारा 302, 201 भादवि. दर्ज कर मृतक का शव पंचनामा एवं जप्ती कार्यवाही किया गया। अज्ञात मृतक की शिनाख्त (पहचान) हेतु मुखबीरों को सक्रिय किया गया एवं सोशल मीडिया का सहारा लिया गया। इस दौरान मुखबीर से सूचना मिली कि एक स्कूटी कमांक सीजी 07 बीक्यू 1739 जो बस स्टैण्ड के सामने झाड़ी के पास किसी के द्वारा छुपाया हुआ है, उसमें खून के दाग लगे हुये हैं, तब स्कुटी के नंबर के माध्यम से सायबर सेल द्वारा जांचकर वाहन स्वामी का नाम माधुरी मांडले बालोद बताने पर घर में सूचना दिया गया।

जिससे पता चला कि वाहन मालिक का पति हिमांशु मांडले दिनांक 20.12.2020 के शाम से घर से निकला है, जो वापस नहीं आया है। इस संबंध में हिमांशु मांडले का बड़ा भाई शिव मांडले पिता बसंत कुमार मांडले उम्र 38 वर्ष साकिन बोरसी कॉलोनी दुर्ग मौके पर पहुंचा और शव देखकर पहचान कर अपना भाई हिमांशु मांडले उम्र 35 वर्ष साकिन अटल विहार कॉलोनी सिवनी बालोद का होना तथा शास. उच्चतर माध्यमिक विद्यालय खरथुली, जिला बालोद में खेल शिक्षक होना बताया । तब गवाहों के समक्ष शिनाख्ती पंचनामा तैयार कर शव का पोस्टमार्टम कराया गया। बाद थाना बालोद में मर्ग कमांक 114/2020 धारा 174 जा. फौ. एवं अपराध क्रमांक 398/2020 धारा 302, 201 भादवि कायम कर जांच विवेचना में लिया गया।

प्रकरण की विवेचना के दौरान अज्ञात आरोपियों की पता तलाश हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के निर्देशन व पुलिस अनुविभागीय अधिकारी बालोद के पर्यवेक्षण में विशेष टीम गठित किया गया जांच क्रम में सायबर सेल की सहायता से तकनीकी साक्ष्य एकत्र कर संदेहियों से पूछताछ किया गया इस दौरान मुखबीर के जरिये पता चला कि मृतक हिमांशु मांडले के घर लोकेन्द्र पटेल नामक व्यक्ति का आना जाना था जिसे संदेह के आधार पर थाना लाकर पूछताछ किया गया।

विवेचना के दौरान संदेही लोकेन्द्र पटेल पिता स्व. रामसिंह पटेल, उम्र 26 साल, निवासी मरारपारा बालोद एवं मृतक की पत्नी से बारीकी से पूछताछ करने पर ज्ञात हुआ कि लोकेन्द्र पटेल गंजपारा बालोद स्थित वेस्टर्न डांस एकेडमी में डांस सिखाने का काम करता था उसी दौरान 08-09 माह पूर्व लोकेन्द्र पटेल और माधुरी मांडले से जान पहचान हुई, वह मृतक की 07 वर्षीय पुत्री को डांस सिखाने आता था। इसके साथ मृतक की पत्नी माधुरी मांडले भी डांस का शौकीन होने से डांस सीखती थी। इस दौरान लोकेन्द्र पटेल और माधुरी मांडले के बीच दोस्ती हो गई व फोन से बातचीत करने लगे। दोस्ती गहरी होने से दोनों में प्रेम संबंध हुआ इस दौरान मृतक की पत्नी माधुरी मांडले द्वारा अपने प्रेमी लोकेन्द्र पटेल को बताया कि उसके पति के साथ बहुत ज्यादा लड़ाई झगड़ा होते रहता है, जिससे मैं परेशान रहती हूं व अपने पति से तलाक लेकर अलग रहना चाहती हूं। या तो हिमांशु मांडले (पति) मर जाये या इसका कुछ कर लो , तभी हम एक-दूसरे के साथ रह सकते हैं।

तब माधुरी मांडले के कहने पर आरोपी लोकेन्द्र पटेल द्वारा हिमांशु मांडले को मारने की योजना बनाई। लोकेन्द्र पटेल अपने पूर्व परिचित दोस्त निखिल सोनवानी रायपुर से फेसबुक के माध्यम से संपर्क कर उसका फोन नंबर लिया और उससे बातकर बताया कि उसकी किसी व्यक्ति के साथ दुश्मनी है जिसे जान से मारना है। दिनांक 19.12.2020 को निखिल सोनवानी को लोकेन्द्र पटेल ने रात्रि में फोन कर कहा कि दिनांक 20.12.2020 को दोपहर में रायपुर से निकलना और निकलते समय फोन बंद कर देना मैं शाम 06:00 बजे बस स्टैण्ड बालोद में मिलूंगा, कहा। निखिल सोनवानी द्वारा अपने मोहल्ले तथा आसपास के रहने वाले कृष्णकांत शर्मा उर्फ गोलू, गोविंद सोनी व 02 अन्य नाबालिग दोस्तों को संपर्क किया। निखिल सोनवानी ने बालोद घूमने के नाम से किराये पर एक इनोवा कार की बुकिंग कराई और इस कार से पांचो बालोद के लिए निकले। बालोद पहुंचने से पहले इन्होने अपना मोबाईल फोन बंद कर दिया। शाम लगभग 06:00 से 06:30 बजे के बीच बालोद बस स्टैण्ड पहुंचे जहां पहले से ही लोकेन्द्र पटेल था । निखिल सोनवानी ने रायपुर से साथ आये सभी आरोपियों को लोकेन्द्र पटेल से मिलाया। इसके बाद सभी लोगों ने बस स्टैण्ड में चाय-नाश्ता किया। इनोवा कार से कॉलेज रोड़ तिराहा तक गये और इनोवा कार चालक को 100/-रुपए देकर नाश्ता करने तथा बस स्टैण्ड में ही रहने बताये । इनोवा कार का चालक कार लेकर बस स्टैण्ड की ओर चला गया । आरोपी लोकेन्द्र पहले से ही हिमांशु (मृतक) को बता दिया था कि उसके कुछ दोस्त आ रहे हैं जिनके साथ पार्टी करना है। निखिल सोनवानी और अन्य आरोपियों को वहां छोड़कर लोकेन्द्र पटेल फिर हिमांशु मांडले को लेने चला गया। लोकेन्द्र पटेल ने हिमांशु मांडले को फोन करके बस स्टैण्ड बुलाया । कुछ देर बाद लोकेन्द्र पटेल अपनी मोटर सायकल तथा हिमांशु अपनी स्कूटी से कॉलेज तिराहा पहुंचे। कॉलेज के पास तिराहा में पहले से निखिल सोनवानी एवं उनके साथी मौजूद थे, जिनसे लोकेन्द्र के द्वारा हिमांशु मांडले का परिचय कराया गया।