कोरबा के बताती गांव में मिला 17 फीट का किंग कोबरा

Chhattisgarh Crimes

कोरबा। वन मंडल कोरबा के बताती गांव में 17 फीट लंबाई वाले कोबरा सांप को स्नेक कैचर चीते सारथी ने वन विभाग के कर्मियों के सहयोग से पकड़ा है। बताती के गांव में एक विशालकाय किंग कोबरा घर के बरांदे में रखें बास के नीचे बैठा हुआ था. जिसे देख घर वाले भाग खड़े हुए हैं. बिना देरी किए गांव वालों ने स्नेक रेस्क्यू टीम के प्रमुख जितेंद्र सारथी को इसकी सूचना दी. जिसके बाद बिना देरी किए जितेंद्र ने कोरबा डीएफओ प्रियंका पाण्डेय को जानकारी दी.

Chhattisgarh Crimes

डीएफओ ने तत्काल डिपार्टमेंट को रेस्क्यू टीम के साथ मौके पर पहुंचे. जिसके बाद रेंजर कर्मकार पूरे टीम के साथ बताती के लिए रवाना हुए. मौके स्थल में पहुंचने पर देखा गांव वाले बड़ी संख्या में खड़े हुए देख रहे थे. भीड़ को हटाया गया, क्योंकि किंग कोबरा बहुत ही तेज और गुस्सैल होता हैं.

रेस्क्यू के दौरान कोई अप्रिय स्थिति न निर्मित हों उसके लिए सभी को वहां से हटाया गया जिसके बाद जितेंद्र सारथी ने रेस्क्यू आॅपरेशन अपने टीम के सदस्यों के साथ चालू किया. बास के नीचे बैठे विशाल किंग कोबरा को देख सब लोग हैरान थे. घंटों मशक्कत के बाद रेस्क्यू कर कोबरा को पकड़ा गया.

कोरबा डीएफओ प्रियंका पाण्डेय ने बताया कि किंग कोबरा मिलने की सूचना पर वह स्वयं रेस्क्यू टीम के साथ मौके पर पहुंची. रेस्क्यू कर उसे जंगल में छोड़ा गया.

डीएफओ प्रियंका पांडे ने बताया कि बताया की किंग कोबरा स्पेशल प्रजाति है जो वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन की श्रेणी में आता है, जिसे बड़े ही सावधानी से रेस्क्यू कर पकड़ा और छोड़ा जाता है. इससे पहले भी बताती क्षेत्र में किंग कोबरा पाया गया था और अभी भी एक विशालकाय किंग कोबरा पाया गया है, इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस क्षेत्र का जंगल उनके लिए वातानुकूल है. ये प्रजाति ज्यादातर साउथ एशिया में पाई जाती है.

सर्प मित्र दल के द्वारा बड़ी मशक्कत के बाद रेस्क्यू कर उसे पकड़ा गया पर उसे सुरक्षित जंगल में रिलीफ किया गया. पूरी टीम और वन विभाग के कर्मचारी बधाई के पात्र हैं. डीएफओ ने स्नेक रेस्क्यू टीम के प्रमुख जितेंद्र सारथी और उसकी पूरी टीम को बधाई दिया है. साथ ही आगे भी ऐसे ही काम करते रहने कहा.