ट्रकों के जाम में फंसी एम्बुलेंस, पंडो जनजाति की 4 साल की बेटी की गई जान

Chhattisgarh Crimes

बलरामपुर। जिले में लगातार अलग अलग कारणों से पंडो जनजाति के लोगों की मौत हो रही है। गुरुवार को यहां एक इसी जनजाति के चार वर्षीय मासूम बच्ची की जान गई है। बताया जा रहे है बच्ची की तबियत ख़राब थी और उसे बड़े अस्पताल में उपचार के लिए रेफर किया जा रहा था। लेकिन रास्ते में रेत की गाड़ियों ने जाम लगा रखा था। इसमें फंसकर मासूम की मौत हो गईं।

मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार शाम लगभग 7:00 बजे 108 वाहन की मदद से सनावल से रेफर लेकर रामानुजगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एक 4 वर्षीय पंडो जनजाति की बालिका को ईलाज हेतु लाया जा रहा था। लेकिन रास्ते में काफी मात्रा में रेत से लदे लगभग 200 ट्रकों की लाइन लगी थी। जिसमें 108 वाहन फंस गई। इस दौरान 4 वर्षीय मासूम बालिका की मौत हो गई।

108 वाहन में तैनात स्टॉप राजेश कुशवाहा ने बताया कि उक्त बालिका की स्थिति काफी क्रिटिकल थी। उसे सांस लेने में काफी दिक्कत हो रही थी, लेकिन रास्ते में रेत से लदे सैकड़ों ट्रकों की लाइन लगी थी, जिसके कारण हॉस्पिटल तक पहुंचने में काफी देर हो गई और हॉस्पिटल पहुंचने पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

बलरामपुर जिले के मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी  डॉ. बसंत सिंह ने बताया कि ग्राम पंचायत गाजर में एक 4 वर्षीय बालक की विगत 15 सितंबर से तबीयत खराब थी और 108 की मदद से उसे ईलाज के लिए रामानुजगंज अस्पताल लाया जा रहा था और रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही बताया जा सकता है कि उसकी मौत किस हालत में हुई है।