बीजेपी पिछड़ा वर्ग मोर्चा के नए अध्यक्ष भरत वर्मा ने पदभार संभाला

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। चुनावों में जातीय समीकरण हर सियासी पार्टी के लिए अहम मुद्दा होता है। भारतीय जनता पार्टी ने अब तैयारियां शुरू कर दी हैं । मिशन 2023 विधानसभा चुनावों में पिछड़ा वर्ग सियासी नैया को पार लगाए इस आस में भाजपा बैठी है। प्रदेश में पिछड़ा वर्ग को साधने की कोशिश में भाजपा लगी हुई है । रविवार को रायपुर में पार्टी के प्रदेश कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में पिछड़ा वर्ग मोर्चा के नए अध्यक्ष ने पदभार संभाला।

पार्टी ने हाल ही में भाजपा नेता भरत वर्मा को पिछड़ा वर्ग मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया है। वर्मा ने भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष भूपेंद्र सवन्नी, पिछड़ा वर्ग मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष अखिलेश सोनी, महामंत्री केदार कश्यप की मौजूदगी में पदभार ग्रहण किया और बड़े नेताओं को इस जिम्मेदारी के लिए शुक्रिया कहा।

भारत वर्मा को सभी समाजों और उप समाजों की सूची बनाकर उनके प्रमुखों से मिलने का टास्क दिया है । जल्द ही भाजपा बड़े स्तर पर सामाजिक सम्मेलन का आयोजन करने जा रही है, ताकि इस वर्ग को साधा जा सके। हाल ही में धमतरी के रिजॉर्ट में हुई भाजपा की गोपनीय बैठक में भी भरत वर्मा को बुलाया गया था । इस बैठक में भी प्रदेश के पिछड़ा वर्ग समाज से जुड़े जातीय समीकरणों को लेकर बड़े नेताओं से वर्मा ने चर्चा की और निर्देश लिए।

वर्मा के पदभार ग्रहण समारोह में प्रदेश महामंत्री केदार कश्यप भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि पिछड़ा वर्ग मोर्चा को सैनिक की तरह काम करना होगा। बस्तर सरगुजा क्षेत्र में मोर्चा के विशेषकर ओबीसी वर्ग के लोगों को कार्यक्रम सम्मेलन करने कहा गया है । उन्होंने कहा कि कांग्रेस की नीतियों से ओबीसी वर्ग नाराज है। भूपेंद्र ने कहा कि 1 साल का समय बचा है। इससे पहले जब प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी थी, तब ओबीसी वर्ग की बड़ी भूमिका थी। नए सिरे से भाजपा का पिछड़ा वर्ग मोर्चा काम करेगा । भरत वर्मा ने कहा कि अब तक 9 जिलों का दौरा कर चुका हूं, लगातार प्रदेश के हर जिले में दौरे होंगे । प्रदेश में पिछड़ा वर्ग से जुड़ी 95 जाति-समाज के लोगों को साथ जोड़कर सम्मेलन करने की तैयारी है।