67वां राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में छत्तीसगढ़ी फिल्म भूलन द मेज को मिला क्षेत्रीय फिल्म केटेगरी में बेस्ट फिल्म का पुरस्कार

Chhattisgarh Crimes

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा कर दी है. मनोज वर्मा की ‘भूलन द मेज’ को बेस्ट फिल्म का पुरस्कार मिला है. छत्तीसगढ़ी फिल्म ‘भूलन द मेज’ को क्षेत्रीय फिल्म केटेगरी में पुरस्कार मिला है. संजीव बख़्शी की उपन्यास पर ये फिल्म बनी है. ये दिवंगत पदुमपुन्ना लाल बख्सी के बेटे संजीव बख़्शी हैं. इस फिल्म के निर्माता मनोज वर्मा हैं. इसी तरह सिक्किम को ‘मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट अवॉर्ड’ मिला है. जबकि सुशांत सिंह राजपूत अभिनित फिल्म ‘छिछोरे’ को सर्वश्रेष्ठ हिन्दी फिल्म का पुरस्कार मिला है.

बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री कंगना रनौत को फिल्म ‘पंगा’ और ‘मणि कर्णिका’ के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के अवार्ड से सम्मानित किया गया है. इसके अलावा सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार से मनोज वाजपेयी और धनुष को सम्मानित किया गया है. मनोज बाजपेयी को हिंदी फिल्म ‘भोंसले’ के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार दिया गया है. जबकि तमिल फिल्म ‘असुरन’ के लिए धनुष को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार दिया गया. सर्वश्रेष्ठ पुरुष पार्श्व गायक का पुरस्कार हिंदी फिल्म ‘केसरी’ के ‘तेरी मिट्टी’ गाने के लिए गायक बी प्राक को दिया गया.

  • कंगना रनौत को ‘बेस्ट एक्ट्रेस’ का अवॉर्ड
  • मनोज बाजपेयी को मिला बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड – फिल्म ‘भोंसले’ के लिए
  • बेस्ट हिंदी फिल्म- सुशांत ​सिंह की फिल्म ‘छिछोरे’
  • सोहिनी चट्टोपाध्याय को बेस्ट फिल्म क्रिटिक्स का अवॉर्ड
  • बेस्ट एनीमेशन फिल्म ‘राधा’
  • बेस्ट मराठी फिल्म- ‘BARDO’
  • बेस्ट पंजाबी फिल्म- ‘रब दा रेडियो 2’
  • बेस्ट हरियाणवी फिल्म- ‘छोरी छोरों से कम नहीं’
  • बेस्ट प्लेबैक सिंगर- ‘केशरी’ के लिए बी प्राक को मिला