रेलवे में नौकरी लगाने के नाम से फर्जीवाड़ा करने वाला गिरफ्तार

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। अपराध गुप्तचर शाखा डिटेक्टीव विंग, रेलवे सुरक्षा बल, सिकन्दराबाद, दक्षिण मध्य रेलवे के प्रभारी ने सुशील यादव, निरीक्षक अपराध गुप्तचर शाखा डाटा एनालिटिकल विंग, रेलवे सुरक्षा बल रायपुर को सूचना दी गई कि एक आरोपी गाडी संख्या 02738 गौतमी एक्सप्रेस से एक महिला यात्री का छोटा बैग जिसमें सोने का नेकलेस, कान का टाप, सोने का चैन रिंग सहित, कान का रिंग इत्यादि एवं नगद 18000 रुपये कुल कीमत 78000 रूपए  चोरी कर रायपुर की ओर भाग गया है।

आरोपी का फोटो एवं मोबाईल नंबर भी साझा किया गया। उक्त सूचना को मण्डल सुरक्षा आयुक्त रेसुब रायपुर को अवगत कराया गया। ए.एन. सिन्हा महानिरीक्षक-सह-प्रधान मुख्य सुरक्षा आयुक्त रेसुब, बिलासपुर एवं संजय कुमार गुप्ता मण्डल सुरक्षा आयुक्त , रायपुर के कुशल मार्गदर्शन में सुशील यादव, निरीक्षक अपराध गुप्तचर शाखा डाटा एनालिटिकल विंग रायपुर द्वारा तत्काल कार्यवाही करते हुए साईबर सेल रायपुर से समन्वय कर आरोपी के मोबाईल की ट्रेकिंग करवाई गई। 28 जून 2021 को ट्रेकिंग के अधार पर सुशील कुमार यादव निरीक्षक अपराध गुप्तचर शाखा डाटा एनालिटिकल विंग, रेलवे सुरक्षा बल रायपुर, एम. के मुखर्जी निरीक्षक रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट रायपुर एवं सायबर क्राईम रायपुर के आरक्षक अनुप मिश्रा द्वारा फोन के लोकेशन के आधार पर आरोपी को फाफाडीह चौक, रायपुर के पास से गिरफ्तार कर रेसुब पोस्ट रायपुर लाया गया।

लोकोपायलट के पद पर बिलासपुर में कार्यरत होना बताता था जालसाज

पूछताछ करने पर आरोपी द्वारा अपना नाम व पता सूरज कुमार राम निवासी कृष्णापूरी देवता भवन के पास, मकान नंबर 122 थाना बागबहरा जिला पूर्व सिंहभूम (जमशेदपुर) झारखंड बताया। आरोपी की तलाशी लेने पर उसके पास से 1 सोने का चैन लाकेट सहित, 1 सोने की अंगुठी, 3 नग मोबाईल (जीवे लाईफ, सेमसंग ड्यूज एवे सेमसंग जे टू कोर) एवं नगद 27,850/- रूपए पाया गया। कुल कीमत एक लाख सत्रह हजार पाया गया। जानकारी लेने पर ज्ञात हुआ कि आरोपी के विरूद्ध जमशेदपुर झारखंड में एफआईआर नंबर 3152014/2015 धारा 323, 504, 354, 307 एवं 34 भा.द.वि., शासकीय रेल पुलिस भुवनेश्वर उडीसा में अपराध क्रमांक 01/21 दिनाक 02.01.2021 धारा 171, 419, 420, 468 एवं 471 भा.द.स. एवं बिल्हा थाना छत्तीसगढ़ में अपराध क्रमाक 0102/2020 दिनांक 24.06.2020 धारा 420 भा.द.स. में मामला दर्ज होना पाया गया। आरोपी के द्वारा अपने को रेलवे में लोकोपायलट के पद पर बिलासपुर में कार्यरत होना बताया जाता है तथा रेलवे में नौकरी लगाने  के नाम से फर्जीवाड़ा पूर्व से कर रहा है।