2011 विश्व कप को दोहराने के इरादे से उतरेगी इंडिया लीजेंड्स

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। छत्तीसगढ़ का शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम रविवार को लीजेंड्स क्रिकेट के नए इतिहास का गवाह बनने जा रहा है।एनअकेडमी रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज टी-20 टूर्नामेंट के फाइनल में इंडिया लेजेंडस का सामना श्रीलंका लीजेंडस से होगा और यह मुकाबला 2011 विश्व कप में मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में हुए फाइनल की तरह होगा। इंडिया लेजेंडस के पास इस समय उस विश्व कप टीम के पांच खिलाड़ी हैं, जबकि श्रीलंका के पास 2011 विश्व कप उपविजेता टीम के छह खिलाड़ी टीम में हैं। श्रीलंका उस हार को जीत में तब्दील करना चाहेगा।

सचिन तेंदुलकर की अगुवाई वाली इंडिया लीजेंड्स की टीम में वीरेंद्र सहवाग, युवराज सिंह, यूसुफ पठान और मुनाफ पटेल जैसे खिलाड़ी हैं, जबकि तेज गेंदबाज जहीर खान पिछले साल इस टीम का हिस्सा थे। इस बीच श्रीलंका लीजेंड्स टीम में कप्तान तिलकरत्ने दिलशान, रंगना हेराथ, नुवान कुलसेकरा, अजंता मेंडिस, चमारा सिल्वा और उपुल थरंगा शामिल हैं जो 2011 विश्व कप उपविजेता टीम का हिस्सा थे।

बदला लेने के इरादे से उतरेगी टीम

कप्तान तेंदुलकर के नेतृत्व में इंडिया लीजेंड्स, 2011 विश्व कप फाइनल के प्रदर्शन को दोहराने के लिए उत्सुक हैं, जबकि दिलशान के पास इस मुकाबले को जीतकर विश्व कप फाइनल में मिली हार का बदला लेने का मौका होगा। दोनों टीमें पूरे टूर्नामेंट में शानदार फॉर्म में हैं।

सहवाग व युवी पर निगाहें

विश्व की नंबर वन जोड़ी सचिन-सहवाग को विस्फोटक शुरुआत करनी होगी। दो मैचों में सचिन ने लगातार दो अर्धशतक जड़ चुके हैं। वीरेंद्र सहवाग की विस्फोटक शुरुआत टीम के लिए अहम होगी। इसके बाद जिस तरफ से युवराज का बल्ला चल रहा है, उससे श्रीलंका टीम काफी दबाव में है। इसके अलावा यूसुफ, इरफान और मनप्रीत सिंह गोनी भी टीम को आखिरी में बड़े स्कोर तक पहुंचा सकते हैं।

श्रीलंका की टीम भी कम नहीं है। सीजन में टॉप स्कोररों की सूची में शीर्ष तीन में उनके दो बल्लेबाज हैं। दिलशान सात मैचों में 250 रन जिसमें दो अर्धशतक के साथ शीर्ष पर है और उसके बाद थरंगा हैं, जो पांच मैचों में 224 रन के साथ तीसरे स्थान पर हैं।

जरूरी बातें

– बिना मास्क स्टेडियम में प्रवेश नहीं।

– मास्क न पहनने वालों का काटा जा रहा चालान।

– स्टेडियम के अंदर भी मास्क लगा कर रखना होगा जरूरी

– सर्दी-जुकाम होने पर मैच देखने न जाएं।