भारतीय पुरुष हॉकी टीम तीसरी बार कॉमनवेल्थ गेम्स के फाइनल में पहुंची, सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका को 3-2 से रौंदा

Chhattisgarh Crimes

बर्मिंघम। भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने अपना शानदर प्रदर्शन जारी रखते हुए बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 (Commonwealth Games 2022) के फाइनल में जगह बना ली है। भारतीय टीम तीसरी बार किसी कॉमनवेल्थ गेम्स के फाइनल में पहुंची है। फाइनल में अब भारत का सामना ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच होने वाले दूसरे सेमीफाइनल के विजेता से होगा। भारतीय टीम ने शनिवार को खेले गए पहले सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका को 3-2 से मात दी। इस अहम सेमीफाइनल मुकाबले में हाफ टाइम तक भारत ने 2-0 की बढ़त बना ली थी। भारत के लिए अभिषेक, मनदीप सिंह और जुगराज ने गोल दागे।

तीसरी क्वार्टर में भारत को मैच का पांचवां पेनल्टी कॉर्नर मिला, लेकिन भारतीय टीम इस मौके को गोल में तब्दील नहीं कर पाई। भारत के बाद साउथ अफ्रीका को भी मैच का दूसरा पेनल्टी कॉर्नर मिला, जिसे भारतीय टीम ने बेहतरीन तरीके से डिफेंस कर दिया। हालांकि इसके तुरंत बाद ही दक्षिण अफ्रीका ने अपना खाता खोल लिया। साउथ अफ्रीका के लिए यह गोल जूलियस ने किया। इस गोल के बाद साउथ अफ्रीका ने मुकाबले में 1-2 का स्कोर कर दिया।

हॉकी के मैच में घड़ी से जुड़े विवाद पर FIH ने माफी मांगी, जानिए मामला
मैच में पहला गोल खाने के बाद भारतीय टीम दबाव में दिखने लगी। इसी क्वार्टर में दक्षिण अफ्रीका को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिल गया। लेकिन भारतीय गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने दक्षिण अफ्रीका के इस हमले को विफल कर दिया। इसके कुछ देर बाद ही विकेक सागर प्रसाद चोटिल हो गए। भारतीय टीम ने फिर अपना सातवां पीसी भी जाया कर दिया।

तीसरे क्वार्टर की समाप्ति से कुछ समय पहले ही भारत को एक और पेनल्टी कॉर्नर मिल गया, लेकिन इस बार भी साउथ अफ्रीकी गोलकीपर गोवान जोंस टीम के लिए दीवार बनकर खड़े रहे। इस बीच, कप्तान मनप्रीत सिंह को ग्रीन कार्ड थमा दिया गया। लेकिन तीसरे क्वार्टर की समाप्ति से एक मिनट पहले वह अंदर आ गए। इसके बाद भारतीय टीम तीसरे क्वार्टर की समाप्ति तक 2-1 से आगे थी।

चौथे और अंतिम क्वार्टर में भी भारतीय टीम ने कुछ बेहतरीन मौके बनाए। डिफेंस में बेहद मजबूती दिखाते हुए भारतीय टीम मुकाबले में लगातार आक्रमण कर रही थी। लेकिन अभी भी उसकी बढत 2-1 पर कायम थी। मुकाबला समाप्त होने में चार मिनट का समय बचा था और साउथ अफ्रीका ने अपना गोलकीपर हटाकर 11 अटैकिंग प्लेयर के साथ खेलना शुरू कर दिया। इसके बाद भारत को पेनल्टी कॉर्नर मिल गया और जुगराज ने गोल करके भारत की लीड को 3-1 तक पहुंचा दिया।

हालांकि दक्षिण अफ्रीका ने भी एक मिनट बाकी रहते एक और गोल करके स्कोर 2-3 तक ला दिया। हालांकि इसके बाद भारत ने अपनी बढत को कामय रखते हुए 3-2 से जीत दर्ज कर ली। भारत 2010, 2014 और अब 2022 में कॉमनवेल्थ गेम्स के फाइनल में पहुंचा है।