आमदई खदान में नक्सलियों ने 6 वाहनों को किया आग के हवाले, निको के एक कर्मचारी को उतारा मौत के घाट

बारूद लूटकर ले गए नक्सली, जमकर मचाया उत्पात

Chhattisgarh Crimes

नारायणपुर। छोटेडोंगर के आमदई थाना अंतर्गत आज नक्सलियों ने बड़ा खूनी खेल खेला। आज आमदई खदान में रोड निर्माण कार्य में लगे वाहनों को आग के हवाले किया। नक्सलियों ने पहले आईडी ब्लास्ट करके तथा रॉकेट लॉन्चर से आमदई खदान स्थित पुलिस कैंप में हमला किया। नक्सलियों के हमले में किसी भी जवान को कोई भी क्षति नहीं पहुंची। नक्सलियों ने सड़क निर्माण में लगे वाहनों में 4 ट्रेलर, दो डंफर को आग के हवाले कर दिया और रोड निर्माण कार्य में वाहनों के साथ लगे 15 कर्मचारियों को बंधक बना लिया। बाद में नक्सलियों बंधक बनाए 15 कर्मचारियों को छोड़ दिया, लेकिन निको जायसवाल के सुपरवाइज़र प्रदीप शील की डंडे से पीट-पीटकर हत्या कर दी। बताया जा रहा है,कि निकों कंपनी द्वारा खदान में खुदाई की शुरुआत कर दी गई थी और आज चट्टान में बारूद डालने की प्रक्रिया की जाने वाली थी। जिसकी भनक नक्सलियों को लग गई थी और नक्सलियों ने 100 से 200 की संख्या में हमला कर कंपनी के बारूद को भी लूट लिया।

Chhattisgarh Crimes

जब से आमदई घाटी खदान खोलने की सुगबुगाहट शुरू हुई और निको जायसवाल को इस खदान की लीज मिली तब से ही नक्सलियों और आसपास के ग्रामीणों द्वारा लगातार इस खदान के खुलने का खुलकर विरोध किया जा रहा है। कुछ माह पूर्व हजारों की संख्या में पूरे अबूझमाड़ क्षेत्र के आसपास के ग्रामीण आमदई खदान क्षेत्र में लामबंद होकर कई दिनों तक इस खदान के खुलने के विरोध में रात- दिन प्रदर्शन करते रहे। कई चरणों की बातचीत के बाद भी इस मसले का हल नहीं निकला। इस मसले को हल करने के लिए बड़ी सामाजिक कार्यकर्ता बेला भाटिया और सोनी शोरी तक क्षेत्र में पहुंची और जिले के उच्चाधिकारियों के साथ कई बैठक की,लेकिन इसका कोई भी परिणाम नहीं निकला।