एक घंटे की बारिश से तरबतर हुई राजधानी

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। रायपुर में एक सप्ताह तक बरसात रुके रहने के बाद सिस्टम फिर से सक्रिय हुआ है। सोमवार को रायपुर सहित कई जिलों में मूसलाधार बारिश हुई। रायपुर में तो एक घंटे की ही बरसात में मुख्य सड़कों पर एक फीट तक पानी भर गया। निचली बस्तियों और गलियों में लोगों के घरों तक में पानी घुसा है।

मौसम विभाग के मुताबिक सोमवार को दोपहर से शाम तक कई जिलों में बरसात की रिपोर्ट है। रायपुर के अलावा, दुर्ग, राजनांदगांव, महासमुंद, दंतेवाड़ा समेत कई जगहों में अच्छी बरसात बताई जा रही है। रायपुर शहर में गरज-चमक के साथ एक घंटे तक तेज बरसात से जन-जीवन प्रभावित हुआ। पैदल और दोपहिया वाहनों से चल रहे लोग ओवरब्रिज के नीचे छिपने को मजबूर हो गए। जीई रोड पर शहीद स्मारक के सामने, तेलीबांधा थाने के पास, आरडी तिवारी स्कूल के सामने एक फीट तक पानी भर गया। इसकी वजह से यातायात प्रभावित हुआ।

वहीं कई निचले इलाकों में गलियों-घरों में पानी भरने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। रायपुर मौसम केंद्र के विज्ञानी एच.पी. चंद्रा ने बताया, प्रदेश में बंगाल की खाड़ी से काफी मात्रा में निम्न स्तर पर नमी आ रही है। इसकी वजह से प्रदेश में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना जताई गई थी। एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ वज्रपात भी होने की संभावना बनी हुई है।

अगले चार दिन ऐसा ही मौसम

मौसम विज्ञानी एच.पी. चंद्रा ने बताया, अभी 14 अक्टूबर तक बरसात की पूरी संभावना बन रही है। हवा में नमी की मात्रा बढ़ी हुई है। ऐसे में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम स्तर की बरसात के हालात बने हुए हैं। 15 अक्टूबर से बरसात की संभावना में कमी आने लगेगी।

20 के बाद जाएगा मानसून

मौसम विज्ञानिकों का कहना है कि,दक्षिण-पश्चिम मानसून अनुमान से धीमी रफ्तार से वापसी कर रहा है। अभी मानसून की विदाई रेखा उत्तरकाशी, नजीबाबाद, आगरा, ग्वालियर, रतलाम और भरूच है। इस रफ्तार से छत्तीसगढ़ से मानसून की वापसी 20 अक्टूबर के बाद होने का अनुमान लगाया जा रहा है।