विद्युत विभाग की लापरवाही के चलते एक मजदूर मृत, तीन घायल

Chhattisgarh Crimes

बागबाहरा। विद्युत पोल शिफ्टिंग के दौरान बन्द फीडर में अचानक विद्युत प्रवाहित होने से एक मजदूर की मौत हो गई और तीन घायल हो गए। इस घटना को लेकर गाँव में शोक की लहर है।

Chhattisgarh Crimes

प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार की दोपहर लगभग दो बजे बिजली विभाग के जुनवानी फीडर अंतर्गत इंडेन गैस एजेंसी के पास विद्युत विभाग में कार्यरत कर्मचारी टेनसिंग ध्रुव के खेत मे पोल शिफ्टिंग कार्य किया जा रहा था। इस दौरान बिजली विभाग से 1:30 बजे से तीन बजे तक डेढ़ घंटा विद्युत बन्द रखने की अनुमति ली गई थी। फीडर बंद की अनुमति के बाद पोल शिफ्टिंग कार्य मे लगे मजदूर निश्चिंत होकर कार्य कर रहे थे। और विद्युत पोल खड़े करने में लगे थे कि इसी दौरान 11 केवी हाईटेंशन तार में बिजली प्रवाहित हो रही थी। जिससे कार्यरत मजदूर गणेश राम की मौत व तीन अन्य साथी ओंकार यादव, छन्नू लाल, महेंद्र ध्रुव घायल हो गए। अचानक बंद फीडर में विद्युत प्रवाहित होने से बाकी मजदूर साथी बदहवास से हो गए और गणेश बरिहा सहित अन्य तीन घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बागबाहरा लाया गया। जहां चिकित्सकों ने गणेश बरिहा को मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना पर बागबाहरा पुलिस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के कर परिजनों को सौंपा।

Chhattisgarh Crimes

सोरम पंचायत के बंशीलाल बरिहा का इकलौता पुत्र गणेश बरिहा (22) बिजली विभाग के अंतर्गत एक ठेकेदार के अधीन मजदूरी का कार्य करता था। ठेकेदारों के द्वारा विभिन्न स्थानों में पोल शिफ्टिंग का कार्य करता था। गणेश राम बरिहा एकलौता पुत्र होने के कारण बूढ़े मां बाप व पत्नी का भरण-पोषण उसके कंधों पर था। लेकिन इस घटना से उस परिवार पर आफत का पहाड़ टूट गया है। जहां वृद्ध पिता सहित मां, पत्नी के क्रंदन से ग्रामीणों की आंख भर आया। इस हादसे के बाद शनिवार की सुबह मृतक के पिता बंशीलाल बरिहा ग्रामीणों के साथ बिजली विभाग बागबाहरा आकर अपनी शिकायत दर्ज की व दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही मांग की ही। इस दौरान विद्युत विभाग बागबाहरा में संतोष जांगड़े सरपंच पर ग्रामीण जनप्रतिनिधि पहुंचकर दोषियों के ऊपर कार्यवाही की मांग की है।

लापरवाही ने ली मजदूर की जान- नगर एवं ग्रामीण इलाकों में विद्युत पोल लगाने एवं ट्रांसफार्मर लगाने का कार्य तेजी से चल रहा है लेकिन इन कार्यो को करने के लिए न ही कुशल मजदूर है और न ही मॉनिटरिंग के लिए कोई इंजीनियर आते है । यह सारा काम अकुशल श्रमिको के भरोसे छोड़ कर ठेकेदार एवं विद्युतविभाग के कर्मचारी इनके मेहनताने पर ऐश करते नजर आते है । ठेकेदार द्वारा अकुशल मजदूरों को सस्ते दरो में काम में रखकर उनके जान से खिलवाड़ किया जाता है, जिसका भुगतना इन भोले भाले मजदूरों को अपनी जान गवाकर भुगतना पड़ता है।

विद्युत विभाग की लापरवाही से घटी दुर्घटना – विद्युत फीडर में कार्यरत मजदूरों ने बताया कि विद्युत विभाग में इंडेन गैस गोदाम के पीछे कार्य करने हेतु विद्युत विभाग के कर्मचारी मंटू लाइनमेन को 1.30 से 3 बजे तक कार्य करने के लिए लाइट बंद करने की अनुमति लिया गया था और विद्युत विभाग के दूसरे कर्मचारी टेनसिंग ध्रुव के खेत कार्य चल रहा था। कार्य के 15 मिनट के भीतर ही जुनवानी फीडर की विद्युत आपूर्ति को चालू कर दिया जिंसके चलते ये बड़ा हादसा घटित हुआ। जिसमे एक व्यक्ति की मृत्यु हो गई है एवं तीन मजदूर बुरी तरह से घायल है।

लापरवाही दोनो पक्षों से हुई है, सुरक्षा संसाधनों का उपयोग नही किया गया, जिससे घटना घटित हुई है।
एई एन एल पटेल