छत्तीसगढ़ में दीपावली के बाद बाद होगी धान खरीदी

Chhattisgarh Crimes

रायपुर. छत्तीसगढ़ में खरीफ की कटाई शुरू हो चुकी है। मंत्रिमंडलीय उपसमिति की बैठक में धान खरीदी की तारीख तय नहीं हो पाई। इसे दिवाली बाद प्रस्तावित बैठक में तय किया जाएगा। इस बीच उप समिति ने इस साल 105 लाख मीट्रिक टन धान खरीदने का लक्ष्य तय कर लिया है। खरीदी में इस बार भी बारदाने का संकट है। ऐसे में शुरू से ही किसानों और मिलरों से बारदाने लेकर खरीदी की जाएगी।

खाद्य मंत्री अमरजीत भगत की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडलीय उपसमिति में कृषि मंत्री रविंद्र चौबे और सहकारिता मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम भी शामिल हुए। इस दौरान अधिकारियों ने बताया, पिछले साल की तुलना में धान के रकबे में 48 हजार हेक्टेयर की वृद्धि हुई है। ढाई लाख अधिक किसानों ने रजिस्ट्रेशन भी कराया है। इसके मान से 105 से 107 लाख मीट्रिक टन धान आने की संभावना है।

बताया गया, केंद्रीय जूट आयुक्त को 5 लाख 50 हजार गठान बारदानों का ऑर्डर दिया गया है। अभी तक वहां से इसके संबंध में कोई जवाब नहीं आया है। बैठक के बाद कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविंद्र चौबे ने बताया, उम्मीद जताई जा रही है कि पिछले वर्षों की तरह जूट आयुक्त मांग की तुलना में 30 प्रतिशत बारदानों की ही आपूर्ति कर पाएंगे। ऐसे में बारदानों का संकट हो सकता है।

पिछले साल की तरह संकट न हो, इसके लिए तय हुआ है कि शुरू से ही किसानों के बारदानों में भी धान की खरीदी की जाएगी। सरकारी राशन की दुकानों और राइस मिलों से भी बारदाना लिया जा रहा है। वहीं प्लास्टिक के बारदाने खरीदने के लिए टेंडर की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सरकार ने पिछले साल 92 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की थी।