देसी शराब पीकर लोगों की हो रही तबीयत खराब

Chhattisgarh Crimes

महासमुंद। शहर के गली मोहल्लों में अवैध रूप से बिक रही देसी शराब से लोगों की तबीतय खराब हो रही है। कई मामले सामने भी आ चुके हैं। गली-मोहल्लों में नकली या मिलावटी शराब बिकने की आशंका शराब पीने वालाें ने जताई है। वहीं आबकारी विभाग के अधिकारी इन पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। इस संबंध में शराब पीने वालों ने बताया कि शराब दुकान में देसी शराब का ढक्कन व गली मोहल्लों में बिकने वाली शराब की बोतल के ढक्कन में काफी अंतर है।

डिसलरी से आने वाली देसी शराब की बोतलों में छग डिसलरी लिमिटेड लिखा हुआ है, लेकिन गली में अवैध रूप से बिकने वाली शराब की बोतल के ढक्कन में सीडीएल लिखकर आ रहा है। हालांकि दोनों का रंग नीला व सफेद है, लेकिन गली में बिकने वाली शराब की बोतल का ढक्कन देखकर देसी शराब के नकली होने का डर सता रहा है।

पीने के बाद से बीपी हाई हो रहा था, अब छोड़ दी

भलेसर रोड निवासी एक व्यक्ति ने बताया कि दो सप्ताह से शराब पीने के बाद बीपी हाई हो रहा है। नकली शराब या फिर मिलावट वाली शराब होने की आशंका में अब पीना ही छोड़ दिया।

2 दिन से बुखार आया फिर वहां से खरीदना छोड़ दिया

क्लब पारा निवासी एक युवक ने बताया कि पिछले एक सप्ताह से मोहल्ले में शराब खरीदकर पी रहे हैं तब से ही तबीयत खराब हो रही है। अब मोहल्ले से शराब खरीदना बंद करदिया है।