नौ वर्षीय मासूम के शिकार मानले में आज फिर मिला अवशेष

Chhattisgarh Crimes

गरियाबंद। गुरुवार को मासूम कमार क्षत विक्षत शव( अवशेष) जंगल में मिलने के बाद आज फिर से जंगल में सर्च ऑपरेशन वन विभाग द्वारा चलाया गया जिसमें बच्ची का हाथ, सर और कुछ अवशेष सागौन प्लांट में मिलने के बाद पुलिस को इसकी सूचना दी गई। पुलिस ने अंगों को एकत्रित कर जांच में जुटी है, वही वनविभाग पंचनामा तैयार कर जनहानि प्रकरण के तहत परिजन को तात्कालिक सहायता के रूप में 25000 रुपये दिया गया। नियमानुसार जनहानि प्रकरण में 6 लाख मुआवजा देने का प्रावधान।

Chhattisgarh Crimes

घटना के विषय मे मिली जानकारी के अनुसार गरियाबंद वन परिक्षेत्र का वन ग्राम बम्हनी की निवासी रानी कमार ( विशेष पिछड़ी जन जाति ) नौ वर्षीय बालिका जो कक्षा तीसरी में पढ़ती थी, वो लड़की मंगलवार के शाम को घर से लापता हो गई थी,जिसकी तलाश बच्ची के परिजनों के द्वारा बुधवार शाम तक पता किया गया, बच्ची का पता नही चलने से घटना की जानकारी ग्रामीणो के साथ गुरुवार के सुबह गरियाबंद सिटीकोतवाली में दी गयी, घटना की जानकारी होते ही गरियाबंद पुलिस अधीक्षक ,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, वन विभाग के एसडीओ और थाना प्रभारी अपने टीम के साथ ग्राम पहुचे और बच्चे का तलाश पूरा दिन करने के बाद बच्चे के शरीर का क्षीतविक्षित अवशेष वही के जंगल मे पाया गया।जिसका पता तलाश करने पर बच्चे का जंगली जानवर के द्वारा शिकार करना पाया गया।

Chhattisgarh Crimes

आज शुक्रवार को वन विभाग के अनेक टीम बना कर सुबह 6 बजे से बच्ची के अवशेष खोजबीन के दौरान लगभग 12 बजे सर एवं एक हाथ सागौन प्लांटेशन में पाया गया, जिसकी सूचना पुलिस को दिया गया, मौके पर पुलिस पहुँच बच्ची के अवशेष को संग्रह कर पुलिस कार्यवाही में जुटी है। मनोज चन्द्राकर, उप वनमण्डलाधिकरी ने घटना की जानकारी देते हुए कहा मंगलवार शाम करीब 7 बजे की घटना हैं, जिसकी थाने में बुधवार को रिपोर्ट हुआ जिसकी जानकारी मिलते ही, वन विभाग, पुलिस सयुक्त टीम द्वारा आस पास खोजबीन करते शाम तक किया गया जहाँ बच्चे की कपड़ा कुछ अवशेष मिला, आज सुबह 6 बजे से वन विभाग की टीम द्वारा खोजबीन के दौरान सागौन प्लांटेशन में एक हाथ व सर बरामद किया गया बाकी अवशेष ढूढा जा रहा हैं। वन विभाग के एसडीओ मनोज चंद्राकार ने तत्कालीन सहायता के रुप मे 25000 रूपए का चेक सरपंच अभिमन्यु ध्रुव और अध्यक्ष सर्व आदिवासी समाज युवा नरेन्द्र ध्रुव के मौजूदगी में दिया।