पूर्व महामंत्री अरुण भद्रा को कारण बताओ नोटिस, सोशल मीडिया में पार्टी छवि को नुकसान पहुंचाने का आरोप

Chhattisgarh Crimes
रायपुर. पिछले एक सप्ताह में कई बार हो चुकी मारपीट और अभद्रता की घटनाओं के बाद पार्टी अनुशासन को लेकर कांग्रेस अचानक सक्रिय हो गई है। छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार मंडल के अध्यक्ष सुशील सन्नी अग्रवाल के निलंबन के बाद एक और एक्शन हुआ है। प्रदेश कांग्रेस ने पूर्व महामंत्री अरुण भद्रा को नोटिस जारी कर तीन दिनों में जवाब मांगा है।

भद्रा पर सोशल मीडिया में टिप्पणी से पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचाने के आरोप लगाए गए हैं। बताया जा रहा है, अरुण भद्रा ने शनिवार को सोशल मीडिया पर कुछ टिप्पणियां की थी। ये टिप्पणियां सन्नी अग्रवाल के निलंबन से जुड़ी थी। एक टिप्पणी पार्टी के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया को निशाना बना रही थी। इस टिप्पणी से संगठन भड़क उठा है। प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी महामंत्री प्रशासन रवि घोष ने कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है। इसमें कहा गया, प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से पिछले दिनों की गई अनुशासनात्मक कार्रवाई पर छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया और प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं सोशल मीडिया में आपके द्वारा की गई अनर्गल टिप्पणी का मामला संज्ञान में आया है।

इस प्रकार सोशल मीडिया में की गई टिप्पणी से पार्टी की छवि धुमिल हो रही है। यह अनुशासनहीनता की परिधि में आता है। इस मामले में प्रदेश कांग्रेस कमेटी को अपना लिखित जवाब तीन दिनों के भीतर प्रस्तुत करें। महामंत्री प्रशासन ने लिखा है, अन्यथा की स्थिति में एकतरफा अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

प्रदेश कांग्रेस की ओर से यह नोटिस भेजा गया है।