दर्द से सूजन तक गठिया के लक्षण से मिलेगा छुटकारा, लाइफस्टाइल में करें ये 5 आसान बदलाव

Chhattisgarh Crimes

रूमेटॉइड अर्थराइटिस एक ऐसी ऑटोइम्यून डिसीज है जो अब बहुत कॉमन हो गई है। हालांकि, एक्टिव लाइफस्टाइल और हेल्दी डायट गठिया में दर्द को कम करने में मदद मिल सकती है। एक्सरसाइज गठिया मैनेज करने का एक पार्ट है, हालांकि इसे रोजाना करना चाहिए। इसी के साथ लाइफस्टाइल में दूसरे बदलाव भी हैं जो गठिया के साथ बेहतर तरीके से जीने में मदद कर सकते हैं। ऑर्थोपेडिक के कंसल्टेंट डॉ सिद्धार्थ यादव ने लाइफस्टाइल में 5 बदलाव के बारे में बताया हैं जो गठिया के लक्षणों को दूर करने में मदद कर सकते हैं।

गठिया के लिए कैसे करें लाइफस्टाइल में बदलाव

1) वजन कम करें- ज्यादा वजन वाला शरीर पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस के लिए सबसे आम जोखिम का कारण बनता है। इस दौरान शरीर के वजन का लगभग तीन गुना दबावघुटनों पर आता है। वजन घटाने से शुरुआती गठिया को रोका जा सकता है, इसी के साथ उन लोगों में दर्द से राहत भी मिल सकती है जो पहले से ही इससे पीड़ित हैं।

2) शारीरिक एक्टिविटी में करें चेंज- जिन लोगों को घुटने में दर्द होता है, उन्हें जॉगिंग, स्क्वाटिंग, स्किपिंग, फर्श पर बैठने जैसी इम्पैक्ट लोडिंग एक्टिविटी से बचना चाहिए। केवल वेस्टर्न कमोड का इस्तेमाल करना चाहिए। यह जोड़ों के डैमेज को आगे बढ़ाने और दर्द को कम करने में मदद करेगा।

3) रोजाना एक्सरसाइज- मजबूत मांसपेशियां जोड़ों और जोड़ों की मूवमेंट को स्थिर करती हैं और जोड़ों की सतह के पोषण के लिए भी अच्छी होती हैं, इसलिए रोजाना एक्सरसाइज करना बहुत जरूरी है।

4) विटामिन की खुराक- विटामिन डी हड्डियों को मजबूत बनाता है और विटामिन बी12 मांसपेशियों और नसों के लिए जरूरी है। लंबे समय तक विटामिन की कमी से कार्टिलेज को जल्दी नुकसान हो सकता है जिससे गठिया हो सकता है।

5) योग- योग तनाव को नियंत्रित करने और मेटाबॉलिज्म में सुधार करने में मदद करता है। रोजाना योग करने से दर्द कम हो जाता है जिससे पेन किलर की जरूरत कम हो जाती है।