जंगल की सैर करने वालों के लिए अच्छी खबर, मोहरेंगा नेचर सफारी आम लोगों को समर्पित

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। राज्य तथा शहर के लोगों को सैर के लिए गुरुवार को पर्यटन की दिशा में एक नया अध्याय जुड़ गया। शहर और आसपास के इलाकों में हरियाली बिखेरने के उद्देश्य से राज्य सरकार ताबड़तोड़ काम कर रही है। रायपुरवासियों को आक्सीजोन की सौगात मिलने के बाद गुरुवार को शहर से महज 40 किलोमीटर दूर खरोरा-तिल्दा मार्ग पर स्थित मोहरेंगा को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उद्घाटन किया।

उल्लेखनीय है कि राज्य गठन के बाद रायपुर तथा आसपास के इलाकों में तेजी से कंक्रीट के जंगल खड़े हो गए। इसी कड़ी में राज्य सरकार ने शहर के आसपास के इलाकों में हरियाली बिखेरने के उद्देश्य से मानव निर्मित, एशिया का सबसे बड़ा जंगल सफारी तैयार किया। इसी कड़ी में शहर से सटे एकमात्र मोहरेंगा जंगल को संवारने का निर्णय लिया गया। आठ सौ एकड़ से ज्यादा क्षेत्रफल में फैले मोहरेंगा वनक्षेत्र को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया गया है। मोहरेंगा वनक्षेत्र को विकसित कर इसे इंदिरा प्रियदशर्नी नेचर सफारी का नाम दिया गया है। जंगल की सैर करने के शौकीन नेचर सफारी की सैर सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक महज 10 रुपए में कर सकते हैं। साथ ही बच्चों का एंट्री फीस नहीं ली जाएगी। इसके साथ ही वन्यजीव देखने की लालसा रखने वालों के लिए वन विभाग द्वारा वाहन की व्यवस्था की गई है। वाहन का किराया प्रति व्यक्ति डेढ़ सौ रुपए निर्धारित किया गया है। इसके अलावा वाहन बुक करने पर पर्यटकों को साढ़े सात सौ रुपए देने पड़ेंगे।

करना होगा इन नियमों का पालन

नेचर सफारी की सैर करने आने वाले ऐसे लोग, जो वन्यजीव देखने के लिए जाएंगे। उन्हें सफारी के अंदर कड़े नियमों का पालन करना होगा। सफारी के अंदर घने वनक्षेत्र में पैदल चलने पर रोक है। इसके साथ ही वहां विचरण कर रहे वन्यजीवों के साथ किसी तरह की छेड़खानी करने पर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही वन्यजीवों को किसी तरह की खाने की वस्तु देने पर रोक रहेगी। साथ ही सफारी के अंदर प्लास्टिक की बोतल सहित अन्य सामान फेंकने पर भी मनाही है।

खानपान की व्यवस्था, सेल्फी जोन भी

नेचर सफारी से स्थानीय ग्रामीणों को रोजगार मिल सके, इस बात को ध्यान में रखते हुए नेचर सफारी में कैंटीन का ठेका स्थानीय वन महिला स्व-सहायता समूह को दिया गया है। यहां लोग स्थानीय व्यजंनों के साथ अन्य प्रकार के खानपान का लुत्फ उठा सकेंगे। इसके अलावा पर्यटकों को अपने साथ खाने-पीने का सामान ले जाने की छूट रहेगी। साथ ही नेचर सफारी की सैर करने आने वाले लोगों के लिए सेल्फी जोन बनाए गए हैं।