हाईप्रोफाइल डबल मर्डर केस में बड़ा खुलासा, 100 एकड़ बेशकीमती जमीन को मृतका के नाम करना चाहती थी बुआ, इसी बात पर हुआ विवाद जो दे बैठा हत्या को अंजाम

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। राजधानी रायपुर के खम्हारडीह में पूर्व मंत्री की बहू और पोती के मर्डर मामले में पुलिस अबतक तीसरे संदेही को पकड़ नहीं पाई है। इसी तीसरे संदेही की गिरफ्तारी के बाद ही पुरे हत्याकांड के कारणों का खुलासा होने की बात पुलिस कर रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक शनिवार रात खम्हारडीह थाना इलाके के सतनाम चौक स्थित एक घर में मां-बेटी की हत्या के बाद डबल बेड में लाश मिलने के बाद से इलाके में सनसनी फैली गयी। हालांकि पुलिस ने इस मामले में दो संदेहियों डॉ. आनंद राय और दीपक सायतोड़े को हिरासत में लेकर पुछताछ की। डॉ. आनंद राय और अजय राय दोनों आपस में सगे भाई है और मृतका के रिश्ते में नंदोई बताये जा रहा है।

अभीतक की मिली जानकारी के मुताबिक संदेहियों की एक बुआ जिनकी करीब 100 एकड़ बेशकीमती जमीन को मृतका नेहा धृतलहरे के नाम करने वाली थी इसी बात पर विवाद हो रहा था, इसके अलावा संदेहियों से पुछताछ में बात सामने आई है कि फरार संदेही अजय राय मृतका नेहा से ब्याज पर पैसे लेते रहता था।

शनिवार को भी फरार संदेही 25 हजार रुपए लेने मृतका के घर गया था लेकिन समय पर पैसे वापस नहीं करने की वजह से रिकार्ड खराब होने के कारण अपने साथ अपने भाई डॉ. आनंद राय और उसके मित्र दीपक सायतोड़े को भी अपने साथ लेकर घर गया था।

उस दौरान अजय राय और मृतका नेहा के बीच संपत्ति की बात को लेकर विवाद हुआ, विवाद इतना बढ़ा कि तीनो ने मिलकर नेहा और उसकी 9 साल की मासूम बेटी अनन्या उर्फ पीहू की अपने पहने हुए जुते की लेस से गला दबाकर हत्या कर दी।

हालांकि ये सारी बाते हिरासत में लिये गये दोनो संदेहियो के द्वारा बताई जा रही है लेकिन पुरे हत्याकांड से परदा फरार संदेही अजय राय की गिरफ्तारी के बाद हटने की बात पुलिस मान रही है। आपको बता दे कि फरार संदेही अजय राय के खिलाफ शहर के पंडरी थाना में हत्या के प्रयास और खमतराई थाने में दर्ज हत्या जैसे मामलो में जेल में रह चुका है।

इसके अलावा हिरासत में लिये गये संदेही डॉ. आनंद राय के बारे में बताया जा रहा है कि वो स्वास्थ विभाग में शासकीय डॉक्टर है और आमासिवनी इलाके के प्राथमिक स्वास्थ केंद्र में पदस्थ है व इनके खिलाफ भी वर्ष 2010 में इनकी पत्नी के द्वारा आरंग थाना में बलात्कार का मामला दर्ज करवाया था जिसमें कई महीनो तक जेल में रहे थे। फिलहाल पुलिस की कई टीमें फरार संदेही अजय राय के सभी संभावित ठिकानो पर दबिश दे रही है लेकिन अब तक पुलिस के हाथ पुरी तरह से खाली नजर आ रहे है।