देशी जुगाड़ से खिलखिलाता गांव का बचपन, गांव के बच्चों का खेल होते हैं निराले…

Chhattisgarh Crimes

गांव का बचपन शहर से बिलकुल अलग होता हैं, शहरों मे बच्चों का बचपन अब मंहगे खिलौनों, मोबाइल के साथ बंद कमरों में सिमट कर रह गया हैं ।जबकि गांव में बच्चों का बचपन उससे हटकर होता है ना उनके पास मंहगे खिलौने होते हैं और ना ही उनके हाथों में मोबाइल। गांव में बच्चे खुले आसमान के नीचे प्रकृति की छांव में कभी गिल्ली डंडा तो कभी कंचे का खेल तो कभी घर में पड़ी सायकल का टायर और गांव के तालाब मे डुबकी का खेल ही जहां उनके खेल का हिस्सा होते हैं वहीं उनको शारीरिक रुप से हर परिस्थितियों से लड़ने के लिए मजबूत भी बनाते हैं। समय के साथ गांव के बच्चें भी खेल के लिए देशी जुगाड़ से नए नए अविष्कार कर उसके साथ खेलकर अपना बचपन जी रहें हैं। ऐसा ही कुछ देशी जुगाड़ से बच्चों के निराले खेल को बहुत ही करीब से हमारे रिपोर्टर ने निहारा है पेश है उनकी गांव के बचपन पर एक रिपोर्ट….

पूरन मेश्राम/ छत्तीसगढ़ क्राइम्स

मैनपुर। ग्रामीण अंचल के बच्चे अपने मौज मस्ती और खेलने के लिए खुद देशी जुगाड़ से बहुत सारे खिलौने, सवारी गाड़ी बना करके आनंद और मस्ती में सराबोर रहते हैं। निष्कपट और निश्चल भाव से निसंकोच खुलकर खुशियां बटोरते हैं।

खूब मौज मस्ती करते रहते हैं खिलौने वही सच्चे होते हैं जिनके साथ खेलते समय उनके टूटने का भय न हो।नए युग के अधिकांश महंगे खिलौनों मे टूटने का डर हमेशा बना रहता है।बच्चे निडर भाव से खेलें,आनंद लें,खुल कर खुशियां बटोरें तभी तो खेल हुआ, खिलौने हुए। शहरों के भांति ग्रामीण अंचलों के बच्चे भी देशी जुगाड़ से बहुत सारे अविष्कार करते हुए स्वयं उसका उपयोग करके निडर भाव से खेलकूद किया करते हैं।

ऐसा ही देशी जुगाड़ से गरियाबंद जिले के विकासखंड मैनपुर राजा पड़ाव क्षेत्र के जरहीडीह में ग्रामीण बच्चे साइकिल के खराब पहियों से लकड़ी के सहारे वाहन बनाकर उसमें सवार होकर बड़ी ही मासूमियत के साथ खेलकर मुस्कुराते हुवे मिले।बचपन बड़ा सुहाना हुआ करता है। देश दुनिया से बेखबर कोई मन में खोट और ऊंच-नीच की भावना नहीं इससे निर्मल उदाहरण और क्या होगा कि एक वाहन पर चार दोस्त बैठकर नीचे समभाव से दोस्ती का फर्ज निभा रहे होते हैं। शहरों में ऐसा देखने को नहीं मिलता है।थोड़े समय के लिए ही सही देश दुनिया की सैर करके आ जाते हैं,,,ऐसा निश्चल भाव को सिर्फ गांव मे ही देखने को मिलता हैं।