मैनपुर के जंगलों में फिर एक बार फिर गजराज का कहर जारी

Chhattisgarh Crimes

गरियाबंद। महीने भर पहले तबाही मचाने के बाद फिर जंगली हाथियों का दल मैनपुर के जंगलों में पहुंचा है. शनिवार रात लगभग 12 बजे के आसपास ग्राम सिंहार के कमारपारा में हाथियों के दल ने घुसकर जमकर उत्पात मचाया. एक ग्रामीण गंगाराम पिता छोटूराम के झोपडीनुमा मकान को हाथियों के दल ने पुरी तरह तोडफोडकर रख दिया. झोपडी में रखे चांवल, दाल राशन को खा गए. ग्रामीण अपनी जान बचाने रात को पेड पर चढ गए तो वहीं कई ग्रामीण जान बचाने भागे और सिंहार के मुख्य बस्ती में रातभर आश्रय लिए.

वन विभाग को जानकारी देने पर वन विभाग के एसडीओ राजेन्द्र सोरी वन अमला के साथ सुबह ग्राम सिंहार पहुंचे. पीड़ित परिवार को तत्कालिक कुछ सहायता राशि दिया. साथ ही हाथी मित्रदल और वन विभाग द्वारा आसपास के गांव में मुनादी करवाई जा रही है. हाथियों का दल मैनपुर क्षेत्र के जंगल में पहुच गया है. इसलिए ग्रामीण अकेले जंगल के तरफ न जाएं. रात को बेवजह घर से बाहर न निकलें.

साथ ही वन विभाग के अधिकारी कर्मचारी और हाथी मित्रदल के सदस्य लगातार हाथियों के दल पर नजर रखे हुए हैं. मिली जानकारी के अनुसार लगभग एक माह पूर्व यह हाथियों का दल आमामोरा ओंड पहाड़ी होते ओडिसा सोनेबेडा जंगल में चला गया था, लेकिन पिछले तीन चार दिनों से हाथियों के दल उदंती सीतानदी टाईगर रिजर्व के आमामोरा ओंड पहाडी में के जंगल में आने की सूचना है. वन विभाग को पूरी तरह मुस्तैद है.

यह हाथियों का दल पहाड़ी से उतरकर दो भागों में बंट गया है. एक दल में लगभग 20 से 25 हाथियों का झुंड है, जो सिकाकार जलाशय के नीचे हिस्सा कुलाप जलप्रपात टोरीभुई के तरफ डेरा डाले हुए हैं. वहीं हाथियों का दुसरा दल जिसमें 10-12 हाथियो का झुंड बताया जा रहा है, जिसमें दो मादा हाथी और एक शावक भी बताया जा रहा है. यही हाथियों का दल बीते शनिवार रात को सिंहार ग्राम से लगे पहाड़ी किनारे कमारपारा बस्ती में घुसकर झोपडियों में तोड़फोड़ किया है. हाथी का दल काफी खतरनाक बताया जा रहा है.