डॉक्टर का अपना दोस्त ही निकला हत्यारा, गुरुनानक चौक स्थित होटल में मिली थी लाश

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। राजधानी रायपुर के गुरुनानक चौक स्थित निजी होटल में डॉ. जितेंद्र विश्वकर्मा की संदिग्ध मौत मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. डॉक्टर का दोस्त अजय निषाद ही हत्यारा निकला. हत्यारे दोस्त को अपनी मां के साथ डॉक्टर के अवैध संबंध होने का शक था, जिसके बाद आरोपी ने डॉ. जितेंद्र का गला घोट कर हत्या कर दी. इतना ही नहीं अपनी गुनाहों को छिपाने के लिए शव को फंखे से लटका दिया था और आत्महत्या का रूप दे दिया था, लेकिन पुलिस के सामने गुनहगार बच नहीं सका.

जानकारी के मुताबिक बीते 23 सितंबर को रायपुर के गुरुनानक चौक स्थित होटल संदीप के कमरे में मध्यप्रदेश उमरिया निवासी डॉक्टर जितेंद्र विश्वकर्मा की फंदे पर लटकते हुए संदिग्ध अवस्था मे लाश मिली थी. पुलिस को सूचना मिलते ही होटल के कमरे पहुंची. गंज पुलिस ने शव का मर्ग कायम पोस्टमार्टम के लिए भेजा. पूरे मामले को सुसाइड से जोड़कर तफ्तीश की जा रही थी, लेकिन नया मोड आ गया.

डॉक्टर के साथ होटल के उस कमरे पर ठहरे उसके दोस्त मध्यप्रदेश निवासी अजय निषाद ने पुलिस को अपने बयान में बताया कि उस रात वो दोनों साथ मे शराब पिए थे. वो जोमाटो से खाना लेने होटल के कमरे से नीचे उतरा. जब उसके दोस्त ने 10 मिनट बाद आकर देखा तो कमरे पर डॉक्टर जितेंद्र विष्वकर्मा फांसी लगा लिया था. पुलिस ने आरोपी का बयान दर्ज कर पूरे मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया था.

डॉक्टर की मौत के 4 दिनों बाद आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने पूरी हत्या की झूठी कहानी का पर्दाफाश कर दिया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया कि डॉक्टर की मौत गला घोटने से हुई है. उसके गर्दन क्रैक हुई है. पुलिस ने मौत का समय और उसके हत्यारे दोस्त के बताए समय का मिलान किया, जिसके बाद पूरे मामले का खुलासा हुआ.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने जब हत्यारे दोस्त को हिरासत में लेकर पूछताछ की, तो मामला खुलता गया. आरोपी ने पुलिस को बताया की उसे शक था कि उसके दोस्त जितेंद्र विश्वकर्मा का उसकी मां के साथ कुछ संबंध हैं, जिसके बाद उसने हत्या की पूरी योजना बनाई. हत्यारे दोस्त ने बहन की मार्कशीट ठीक कराने के बहाने अपने दोस्त को रायपुर लाया. लोग एक दिन तक साथ मे रहे. रात में शराब पिलाकर उसकी हत्या कर दी. गुरुनानक चौक स्थित होटल के कमरे में कांच भी टूटे थे. फर्श पर खून भी छींटे बिखरे थे, जिससे पूरा मामला संदिग्ध लग रहा था.

गौरतलब है कि डॉक्टर जितेंद्र विश्वरकमा (35 वर्ष) की मौत की सूचना उसके परिजनों को दी गई. मृत डॉक्टर के पिता के ने उसके दोस्त के बयान को खारिज करते हुए पूरे मामले में सवाल उठाया था. मृत डॉक्टर के पिता ने मौत को सुसाइड नहीं हत्या बताया था. पिता गोवर्धन शर्मा ने कहा था कि जितेंद्र ने सुसाइड नहीं उसकी हत्या की गई है. डॉक्टर का एक महिला के साथ संबंध था, जिसके चलते उसे रायपुर लाकर उसकी हत्या की गई है.