सेल्समैन ने रची थी लूट की झूठी कहानी, पुलिस ने चंद घंटों में ही कर लिया खुलासा

Chhattisgarh Crimes

रायपुर. न्यू राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र के एक्सप्रेस-वे रोड में हुए लाखों रुपए की लूट का चंद घंटों में ही पुलिस ने खुलासा कर लिया. सेल्समैन ही आरोपी निकला है. उस पर अधिक कर्ज होने से उसने लूट की उक्त फर्जी घटना को अंजाम दिया था. आरोपी को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से नगदी रकम 92,000, एक नग चांदी की अंगूठी एवं घटना में प्रयुक्त बाइक, मोबाइल को जब्त किया गया.

घटना का आरोपी एवं मास्टर माइंड निखिल वालेचा प्रार्थी के कंपनी में सेल्समेन का कार्य करता है. आरोपी मूलतः भाटापारा बलौदाबाजार का निवासी है. आरोपी निखिल वलेचा रकम वसूली का कार्य कंपनी में करता है. आरोपी ने अपने उपर ज्यादा कर्ज होने से परेशान होकर रकम गबन करने की योजना बनाई थी. आरोपी के विरूद्ध थाना न्यू राजेन्द्र नगर में अपराध दर्ज किया गया है. घटना के चंद घंटों के भीतर ही पुलिस ने मामले का खुलासा किया है.

प्रार्थी दीपेश कोड़वानी ने थाना न्यू राजेन्द्र नगर में रिपोर्ट दर्ज कराया कि रावाभांठा मेटल पार्क में प्रार्थी की बिस्किट की फैक्ट्री है. निखिल वलेचा प्रार्थी के अधीन जून 2022 से सेल्समैन का कार्य कर रहा है, जो कंपनी में ग्राहकों से वसूली तथा आर्डर का काम देखता है. निखिल वलेचा 24 नवंबर को करीबन शाम 4 बजे प्रार्थी के एमजी रोड की आॅफिस से वसूली के लिए निकला था, जो डूमरतराई थोक बाजार अशोक ट्रेडर्स के पास से 92,000 रुपए वसूली किया था. इसकी जानकारी निखिल वलेचा ने प्रार्थी को दिया था.

कुछ समय बाद निखिल वलेचा ने प्रार्थी को मोबाइल से फोन कर बताया कि एक्सप्रेस-वे फुण्डहर चौक के आगे दो अज्ञात व्यक्ति उसे रोककर हाथ मुक्के से मारपीट कर उसके आंख में मिर्ची का पावडर डालकर बैग में रखा नगदी और उसके हाथ में पहने चांदी की अंगूठी को लूट कर भाग गए. इस पर अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध थाना न्यू राजेन्द्र नगर में अपराध पंजीबद्ध किया गया.

लूट की घटना को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल ने गंभीरता से लेते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर अपराध अभिषेक माहेश्वरी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पश्चिम डीसी पटेल, नगर पुलिस अधीक्षक पुरानी बस्ती राजेश चैधरी, थाना प्रभारी न्यू राजेन्द्र नगर निरीक्षक योगिता खापर्डे एवं प्रभारी एंटी क्राइम एवं साइबर यूनिट को अज्ञात आरोपियों की पतासाजी कर जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश दिए. इस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में एंटी क्राइम एवं साइबर यूनिट तथा थाना न्यू राजेंद्र नगर पुलिस की संयुक्त टीम ने अज्ञात आरोपियों की पतासाजी शुरु की.

प्रार्थी के बताए अनुसार उसके रकम लेकर आने के मार्गों की सीसीटीवी कैमरों के फुटेजों का अवलोकन किया गया, परंतु घटना स्थल तक प्रार्थी के साथ इस प्रकार का कोई घटना होना नहीं दिख रहा था. प्रार्थी से पूछताछ करने पर बार-बार वह अपना बयान बदलकर लगातार टीम को गुमराह करने का प्रयास कर रहा था, जिस पर पुलिस टीम को प्रार्थी के उपर गहरा शक हुआ. साक्ष्यों के आधार पर प्रार्थी से कड़ाई से पूछताछ शुरु की, जिस पर प्रार्थी ज्यादा देर अपने झूठ के सामने टिक न सका और अंततः उसके द्वारा रकम गबन करने की योजना बनाकर लूट की उक्त झूठी घटना को कारित करना स्वीकार किया.