कोमाखान में विश्व आदिवासी दिवस महोत्सव की तैयारी को लेकर आदिवासी समाज ने झोंकी ताकत

Chhattisgarh Crimes

बागबाहरा। अखिल भारतीय गोंड़ समाज 18 गढ़ सुअरमाल राज के तत्वावधान में कोमाखान में आयोजित होने वाली विश्व आदिवासी दिवस महोत्सव को भव्य रूप से मनाने व ऐतिहासिक सफलता दिलाने की जूनून सवार आदिवासी समाज के लोगों में दिखाई दे रहा है।इसका ताजा उदाहरण टोंगोपानी में दाईजबांधा व कसेकेरा सर्कल के संयुक्त बैठक में देखने को मिला।

उल्लेखनीय है कि यह बैठक सामाजिक समरसता के साथ सामाजिक मामले को सरलता से त्वरित निपटारा कर सामाजिक प्रमुखों ने पूरी बैठक में कोमाखान में आयोजित होने वाले 09 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस महोत्सव की तैयारी पर रणनीति बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ा। यह बैठक कसेकेरा सर्कल अध्यक्ष रैनसिंह ठाकुर के सभापतित्व तथा केन्द्रीय महामंत्री मनोहर ठाकुर के मुख्यआतिथ्य व राज संरक्षक केशर ठाकुर के विशेष आतिथ्य में बूढ़ादेव के पूजा-पाठ व आरती से प्रारंभ हुआ।

बैठक को मुख्यअतिथि मनोहर ठाकुर ने संबोधित करते हुए कहा कि आदिवासी समाज के सर्वोच्च संस्कृति से ही देश व विदेश में हमारी अटूट पहचान है। हमारे आदिवासी संस्कृति हमारी धरोहर है जिसे बचाए रखना हम सबकी जिम्मेदारी है।श्री ठाकुर ने आगे कहा कि आदिवासी संस्कृति के साथ-साथ शिक्षा, स्वास्थ्य, व्यवसायिक दृष्टिकोण से स्वरोजगार के लिए जन जागृति लाना अति आवश्यक है। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर संयुक्त राष्ट्र संघ ने पूरी दुनिया में विश्व आदिवासी दिवस मनाने का तिथि 9 अगस्त को निर्धारण किया है। इन्हीं सब उद्देश्यों को ध्यान में रखकर सुअरमाल गढ़ को केन्द्र बिन्दु मानकर कोमाखान में 09 अगस्त को भव्य रूप से विश्व आदिवासी दिवस महोत्सव के सफल आयोजन के लिए आदिवासी समाज के प्रत्येक गांव में बैठक आहूत कर तैयारी में आदिवासी समाजजन जुट गए हैं। उन्होंने आदिवासी समाज से आहृवान किया है कि विश्व आदिवासी दिवस महोत्सव में हजारों-हजारों की संख्या में शामिल होकर आदिवासी एकजुटता का परिचय दें।बैठक का संचालन कसेकेरा सर्कल सचिव महेन्द्र सिंह ठाकुर ने किया।

पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर के खिलाफ निंदा प्रस्ताव भी पारित

गत दिवस विधान सभा सत्र के दौरान पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने छत्तीसगढ़ शासन द्वारा घोषित विश्व आदिवासी दिवस अवकाश को लेकर अनर्गल व अमर्यादित टिप्पणी देकर आदिवासी समाज की अस्मिता पर चोट पहुंचाया है।जिसका आदिवासी समाज ने घोर निंदा प्रस्ताव पारित कर आक्रोश व्यक्त किया है। बैठक में प्रमुख रूप से अंजोर ठाकुर, देवसिंह ठाकुर,कंवल सिंह ठाकुर, महेन्द्र ठाकुर,बुढ़ान ठाकुर,ओंकार ठाकुर,रायसिंह ठाकुर,टीकम ठाकुर,बुटांगू ठाकुर, खेमलाल ठाकुर, जगदीश ठाकुर,मनोज ठाकुर, रामेश्वर ठाकुर,खोलबाहरा ठाकुर सहित बड़ी संख्या में समाज जन उपस्थित थे।