टीएस सिंहदेव ने डाला वोट, कहा-ठीक से काम नहीं कर पा रहा था, इसलिए दिया इस्तीफा; हाईकमान से मिलेंगे

Chhattisgarh Crimes

रायपुर। देश के 16वें राष्ट्रपति के चुनाव के लिए सोमवार सुबह 10 बजे से मतदान शुरू हो गया है। इस दौरान प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव भी मतदान करने के लिए पहुंचे। उनके साथ विधायक छन्नी साहू और शैलेष पांडेय भी थे। विधानसभा में सिंहदेव को देखते ही विधायक कुलदीप जुनेजा उनके पास गए और फिर मतदान कराया।

मतदान के बाद सिंहदेव ने मीडिया से कहा कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है। वह विभाग में सफल नहीं हो पा रहे थे। ठीक से काम भी कर पा रहे थे। इसके चलते खुद को अलग कर लिया। सिंहदेव ने कहा कि वह 20 जुलाई को गुजरात जा रहे हैं। वहां से दिल्ली जाएंगे और पार्टी हाईकमान से मिलेंगे।

पंचायत विभाग से इस्तीफे के बाद पहली बार सिंहदेव मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि कई विधायक अनुभवी हैं। उनका कार्यकाल भी लंबा है। अगर उनको लगता है कि इस्तीफा अनुशासनहीनता है तो सभी को स्वतंत्रता है। मैंने अपनी राय उस पत्र के माध्यम से व्यक्त की थी।

सिंहदेव ने कहा कि केंद्रीय पंचायती राज मंत्री छत्तीसगढ़ दौरे पर आए थे। उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री आवास और रोजगार गारंटी में यहां बहुत खराब काम हो रहा है। इसका मुझे बुरा लगा। जब काम अच्छा नहीं हो रहा है तो मैं भी विभाग में न रहूं। हो सकता है कि बेहतर काम हो सके। मुझे महसूस हुआ कि उस विभागीय मंत्री के रूप में मैं कारगर नहीं हो पा रहा हूं।

अशोक गहलोत की मीटिंग में होंगे शामिल

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वे गुजरात जा रहे हैं। वहां अशोक गहलोत जी ने अहमदाबाद में 20 जुलाई को मीटिंग रखी है। वहां से फिर दिल्ली जाऊंगा। जब व्यक्ति दिल्ली में होता है तो हाईकमान से मिलने का समय भी मांगता है। वहां मिलता है या नहीं मिलता है, उसके हिसाब से मुलाकातें होती हैं। दिल्ली जाने का कार्यक्रम पूर्व निर्धारित है।