सत्ता-मद में चूर जनप्रतिनिधियों का आचरण लोकतांत्रिक मर्यादा के लिए ख़तरा, कांग्रेस के राजनीतिक संस्कारों और चरित्र का शर्मनाक प्रदर्शन : भाजपा

Chhattisgarh Crimes

गरियाबंद ज़िले के देवभोग में कांग्रेस की ज़िपं अध्यक्ष के समर्थकों के साथ गोहरापदर में ज़िला सहकारी बैंक के प्रबंधक से बदसलूकी, गाली-गलौज व मारपीट करने पर भाजपा ने चिंता जतायी

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने सत्ता के मद में चूर कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों के आचरण को राजनीतिक जीवन की शिष्टता और लोकतांत्रिक मर्यादा के लिए ख़तरा बताते हुए कहा है कि यह कांग्रेस के राजनीतिक संस्कारों और चरित्र का शर्मनाक प्रदर्शन है।  कौशिक ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस के लोगों पर सत्ता का अहंकार इस क़दर चढ़ गया है कि वहाँ अब मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री, विधायक, पंचायत पदाधिकारी, पार्षद तक संवेदनशून्य और भाषायी व्यवहार के साथ-साथ सारी राजनीतिक, लोकतांत्रिक व प्रशासनिक मर्यादाओं को लांघकर हिंसा पर उतारू होते जा रहे हैं। धरम लाल कौशिक ने इस तरह की प्रवृत्ति पर तत्काल कड़ा अंकुश लगाने की ज़रूरत बताई है।

भाजपा नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक ने गरियाबंद ज़िले के देवभोग में कांग्रेस से जुड़ीं जिला पंचायत अध्यक्ष द्वारा गोहरापदर में नए खुले जिला सहकारी बैंक के प्रबंधक से बदसलूकी करने, बैंक के अंदर घुसकर गाली-गलौज करने, वहाँ के कर्मचारियों से अपने समर्थकों के साथ मारपीट करने, बैंक में ताला लगाकर प्रबंधक को जबरदस्ती ट्रैक्टर में बिठाकर 15 किलोमीटर दूर थाने में अपनी सरकार का दबाव बनाकर एफआईआर दर्ज करवाने के मामले का ज़िक्र कर इस घटना की भर्त्सना की। इस घटनाक्रम के दौरान जिपं अध्यक्ष व उनके लोगों ने बैंक के कैश को सुरक्षित रखने का समय भी नहीं दिया। श्री कौशिक ने प्रदेश सरकार और कांग्रेस के बड़बोले नेताओं से सवाल किया कि एक जनप्रतिनिधि को किसने यह अधिकार दिया है कि वह स्वयं इस तरह का आचरण करके बैंक प्रबंधन पर कार्रवाई का दबाव बनाएँ और बैंक को ताला लगाकर प्रबंधक को घसीटते हुए ले जाकर थाने में एफआईआर करवाएँ?  धरम लाल कौशिक ने कहा कि अगर जिपं अध्यक्ष को किसी भी प्रकार की शिकायत मिली तो उन्हें पूछताछ करनी थी और नियमानुसार कार्रवाई करानी थी। इस तरह दबंगई करके सत्ताबल के शर्मनाक प्रदर्शन पर कड़ी कार्रवाई की जाए।

भाजपा नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक ने इस घटनाक्रम के प्रत्यक्षदर्शियों से हुई चर्चा के हवाले से बताया कि वास्तव में ज़िला पंचायत अध्यक्ष को खीझ इस बात की है कि वह बैंक की शाखा गोहरापदर के बजाय अमलीपदर में खुलवाना चाहती थीं और उसके लिए जिपं अध्यक्ष ने जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के मुख्यालय तक में दबाव बनाया, परंतु नाबार्ड से स्वीकृति न मिलने के कारण और मुख्य मार्ग पर स्थित होने के कारण बैंक की शाखा गोहरापदर में खुली। कौशिक ने हैरत जताई कि अभी तक जिला सहकारी बैंक मुख्यालय रायपुर ने शासन के दबाव में अपने प्रबंधक को जबरदस्ती उठा कर जाने की घटना पर विरोध तक दर्ज नही कराया है! उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लोग अपने आचरण से प्रदेश को अराजकता की ओर धकेलने पर आमादा हैं। प्रदेश कांग्रेस के नेताओं, कार्यकर्ताओं, जनप्रतिनिधियों, उनके परिजनों और समर्थकों की पिछले दो साल में कई शर्मनाक आपराधिक कृत्यों में संलिप्तता उजागर हुई है। इसी इलाके में एक महिला कांग्रेस नेत्री के बेटे ने लोगों पर वाहन चढ़ा दिया था, तो एक अन्य ज़िले में एक कांग्रेस के नेता के रिशतेदार ने दफ़्तर में एक महिला कर्मचारी के साथ बलात्कार की कोशिश और मारपीट की।

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश में जबसे कांग्रेस की सरकार आई है,कांग्रेस और प्रदेश सरकार सभी वर्ग के लोगों को प्रताड़ित करने का सिलसिला चल पड़ा है। नागरिक सुरक्षा के बड़े-बड़े ढोल पीट रही कांग्रेस और उसकी प्रदेश सरकार के गुर्गों और माफियाओं ने लोगों का जीना मुश्किल कर रखा है। श्री कौशिक ने कहा कि सत्ता-मद में चूर कांग्रेस के पार्षद सरेआम एक आदिवासी युवक को बेरहमी से मारता-पीटता है, कांग्रेस के नेता अपने सत्ता-बल का ज़ोर दिखाकर इन तमाम आपराधिक व अलोकतांत्रिक हरक़तों के आरोपियों बचाने में लगे नज़र आते हैं।  कौशिक ने कहा कि भाजपा ने कभी आपराधिक तत्वों की ऐसी गुंडागर्दी को संरक्षण नहीं दिया और अवसर आने पर भाजपा ने तुरंत कार्रवाई करके ऐसे तत्वों को अपने से दूर कर उन पर क़ानूनी कार्रवाई कराई है, लेकिन कांग्रेस ने अपने दो साल के कार्यकाल में ऐसा एक भी उदाहरण न तो शासन के स्तर पर और न ही संगठन के स्तर पर पेश किया। श्री कौशिक ने शासकीय कर्मचारियों को आश्वस्त करते हुए कहा कि आप निर्भय होकर जनहित के अपने दायित्व का निर्वहन करें, भाजपा सदैव आपके साथ है।