CWC भंग कर खड़गे ने बनाई नई कमेटी, सोनिया-राहुल शामिल; लेकिन थरूर को नहीं मिली जगह

Chhattisgarh Crimes

नई दिल्ली। कांग्रेस के नए अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे पद संभालते ही ऐक्शन मोड में आ गए हैं। उन्होंने पार्टी की संचालन समिति की घोषणा कर दी है। इसमें कई बड़े नाम शामिल है। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को इस समिति में जगह दी गई है। जब तक नई कांग्रेस वर्किंग कमिटी का गठन नहीं होता तब तक संचालन समिति के जरिए ही पार्टी की गतिविधियां चलेंगी।

बता दें कि सीडब्लूसी कांग्रेस की सबसे बड़ी निर्णायक संस्था है लेकिन जब तक इसका गठन नहीं होगा सारे फैसले संचालन समिति के जरिए लिए जाएंगे। पार्टी के पूर्ण सत्र में सीडब्लूसी की घोषणा की जाएगी। पार्टी के संविधान के मुताबिक इसमें 11 सदस्य मनोनीत और 12 निर्वाचित होते हैं। बुधवार को CWC के सभी सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया था ताकि आसानी से नई समिति का गठन किया जा सके।

कांग्रेस की संचालन समिति में कुल 47 नेताओं को शामिल किया गया है। इसमें राहुल गांधी, सोनिया गांधी, डॉ. मनमोहन सिंह के अलावा एके एंटनी, अभिषेक मनु सिंघवी, अजय माकन, अंबिका सोनी, आनंद शर्मा, अविनाश पांडेय. गाएखांगम, हरीश रावत, जयराम रमेश, जितेंद्र सिंह, कुमारी शैलजा, केसी वेणुगोपाल, मुकुल वासनिक, ओमेन चैंडी, प्रियंका गांधी, पी चिदंबरम, रणदीप सिंह सुरजेवाला, रघुबीर मीना, तारिक अनवर, ए चेल्ला कुमार, अधीर रंजन चौधरी, भक्त चरण दास, देवेंद्र यादव दिग्विजय सिंह, दिनेश गुंडु राव, हरीश चौधरी, एचके पाटिल, जय प्रकाश अग्रवाल, केएच मुनियप्पा, बी मानिकम टैगोर, मनीष चतरथ, मीरा कुमार, पीएल पुनिया, पवन कुमार बंसल, प्रमोद तिवारी, रंजनी पाटिल, रघु शर्मा, संजीव शुक्ला, सलमान खुर्शीद, शक्तिसिंह गोहिल, टी सुब्बिरामी रेड्डी, तारिक हामिद शामलि हैं।

शशि थरूर समेत जी-23 के इन नेताओं को नहीं मिली जगह

कांग्रेस की संचालन समिती में आनंद शर्मा, मुकुल वासनिक जैसे कुछ गिने चुने नेताओं के अलावा जी 23 के नेताओं को जगह नहीं दी गई है। मल्लिकार्जुन खड़गे के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले शशि थरूर को भी इस संचालन समिति में जगह नहीं दी गई। इसके अलावा वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी, पीजे कुरियन, प्रथ्वीराज जव्हाण, भूपेंद्र हुड्डा को भी इस सूची से बाहर रखा गया है। बता दें कि इन नेताओं ने ही सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पार्टी का नेतृत्व बदलने की बात कही थी।