7 लाख के 3 ईनामी सहित 4 माओवादियों ने किया आत्मसमर्पण

नारायणपुर में पुलिस के समक्ष समाज की मुख्यधारा में शामिल होने का लिया संकल्प

Chhattisgarh Crimes

नारायणपुर। छत्तीसगढ़ के माओवाद प्रभावित बस्तर के नारायणपुर जिले में 2 अप्रैल 2021 को चार माओवादियों ने समर्पण किया है। इन माओवादियों ने पुलिस के समक्ष उपस्थित होकर अब समाज की मुख्यधारा में शामिल होने का संकल्प है।

बता दें आईजी बस्तर सुन्दरराज पी के निर्देशन में जिला बल, डीआरजी, छसबल, आईटीबीपी द्वारा लगातार नक्सल विरोधी अभियान चलाया जा रहा है। पुलिस द्वारा चलाये जा रहे नक्सल विरोधी अभियान के कारण नक्सलियों पर बढ़ते दबाव एवं शासन की पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर जिला नारायणपुर में 4 नक्सली सदस्यों द्वारा माओवादी संगठन को छोड़कर समाज के मुख्यधारा में सम्मिलित होने नारायणपुर पुलिस के समक्ष आत्म समर्पण किया गया है।

आत्मसर्पित नक्सलियेां को विवरण

  • हेमबती सलाम उर्फ मनीषा पिता स्व. धोबी सलाम, उम्र 27 वर्ष, जाति गोंड, निवासी महिमा गवाड़ी थाना झाराघाटी जिला नारायणपुर। हेमबती माड़ डिवीजन मास स्कूल टीम में शिक्षिका थी। राज्य शासन ने इसके ऊपर 5 लाख रूपये का ईनाम घोषित कर रखा था।
  • मंगू उर्फ मंगेश मोडिय़ाम उर्फ विश्वनाथ पिता स्वर्गीय सोमलू मोडिय़ाम, जाति मुरिया गोंड, उम्र 24 वर्ष, ग्राम डल्ला थाना बासगुड़ा जिला बीजापुर। मंगू कसनसुर एलओएस सदस्य जिला गढ़चिरोली था। राज्य शासन ने इसके ऊपर 1 लाख रूपये का ईनाम घोषित किया था।
  • मासे पोडिय़ामी उर्फ सुमित्रा पिता अंदू पोडिय़ामी, उम्र 18 वर्ष, जाति दण्डामी, निवासी पोकानार थाना कुकड़ाझोर जिला नारायणपुर। मासे इन्द्रावती एलओएस सदस्य थी। राज्य शासन ने इसके ऊपर 1 लाख रूपये का ईनाम घोषित कर रखा था।
  • मोटी उसेंडी उर्फ लक्ष्मी पिता स्वर्गीय अन्नु उसेंडी, उम्र 19 वर्ष, जाति माडिय़ा, निवासी हिकुल थाना ओरछा जिला नारायणपुर। मोटी उसेंडी पोरयुल पंचायत सीएनएम सदस्य थी।